13 2 620x400

13 2 620x400

नई दिल्ली । गुजरात के नवनिर्वचित विधायक और दलित नेता जिग्नेश मेवानी , आजकल काफ़ी सुर्ख़ियाँ बटोर रहे है। चुनाव जीतने के बाद प्रधानमंत्री मोदी पर की गयी उनकी टिप्पणी पर काफ़ी बवाल हुआ। यह अभी शांत भी नही हुआ था की उनका नाम महाराष्ट्र में हुई हिंसा के साथ भी जोड़ा जाने लगा। आरोप है की उन्होंने भीमा कोरेगाँव में लोगों को भड़काया जिसकी वजह से हिंसा हुई।

जिग्नेश के साथ साथ उमर ख़ालिद पर भी भड़काऊ भाषण देने का आरोप है। इन सभी आरोपो पर सफ़ाई देने के लिए जिग्नेश ने शुक्रवार को प्रेस वार्ता की। उन्होंने भाजपा पर उन्हें फँसाने का आरोप लगाया। इसके अलावा उन्होंने दावा किया की वह कोरेगाँव गए ही नही तो हिंसा कहाँ से फैला दी। इस दौरान जिग्नेश भाजपा पर जमकर बरसे। उन्होंने भाजपा और आरएसएस को आड़े हाथो लेते हुए कहा की वे मेरे बढ़ते क़द की वजह से परेशान हो गए है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसी बीच प्रेस वार्ता के बाद जिग्नेश एक और विवाद में फँस गए। रिपब्लिक टीवी का आरोप है की जिग्नेश ने उनके पत्रकार के साथ दुर्व्यवहार किया। इस पूरे घटनाक्रम की एक विडियो जारी करते हुए रिपब्लिक टीवी ने यह आरोप लगाया। विडियो में दिख रहा है की रिपब्लिक टीवी का पत्रकार आदित्य राज क़ौल, प्रेस वार्ता ख़त्म होने के बाद जिग्नेश से सवाल करना चाह रहे थे। लेकिन जिग्नेश उनसे बात नही करना चाहता था।

इस दौरान जब बार बार पत्रकार ने जिग्नेश के मुँह आगे माइक लगाना जारी रखा तो उन्होंने रिपब्लिक टीवी का माइक छिनकर पत्रकार को डाँट लगायी। उन्होंने कहा कि तुम्हें समझ नही आ रहा की मैं तुमसे बात नही करना चाहता। जब इस बारे में रिपब्लिक टीवी ने ख़बर दिखानी शुरू की तो जिग्नेश ने ट्वीट कर उन्हें झूठा क़रार दिया। उन्होंने लिखा,’ बीजेपी की तरह झूठ मत फैलाओ। मैंने माइक इसलिए हटाया था क्योंकि आप बार-बार मेरे मुंह के पास माइक घुसा रहे थे।’

Loading...