नई दिल्ली | दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल और पांच अन्य के खिलाफ मानहानि का मुकदमा करने वाले वित्त मंत्री अरुण जेटली आज अदालत में काफी भावुक नजर आये. केजरीवाल की तरफ से जिरह कर रहे वकील राम जेठमलानी ने जब जेटली से पुछा की क्या आपको लगता है की आपकी महानता की क्षतिपूर्ति नही की जा सकती तो वो भावुक हो गए. जेठमलानी ने जेटली से करीब 30 सवाल पूछे.

केजरीवाल पर मानहानि का केस करने के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली सोमवार को अदालत में उनके वकील के सामने पेश हुए. केजरीवाल की और से जिरह कर रहे वकील राम जेठमलानी ने जेटली से पुछा की आपको कैसे लगता है की केजरीवाल और अन्य ने आपके सम्मान को ठेस पहुंचाई? इस पर जवाब देते हुए जेटली ने कहा की केजरीवाल और उनके अन्य साथियों ने मीडिया के सामने लगातार मेरे खिलाफ झूठे आरोप लगाये.

जेटली ने आगे कहा की मेरे जैसे आदमी की जिसका समाज में एक सम्मान है, हैसियत है, उसके लिए यह अपमान जनक था जिसकी क्षति पूर्ति नही की जा सकती. जेठमलानी ने जेटली से करीब 52 सवाल पूछने की इजाजत मांगी जिसमे से केवल 30 सवाल पूछने की इजाजत मिली. करीब 2 घंटे तक जेठमलानी और जेटली ने जिरह चलती रही. इस दौरान जेटली कुछ भावुक भी नजर आये.

जेठमलानी ने जब जेटली से पुछा की क्या आपने डीडीसीए की जाँच रिपोर्ट पढ़ी थी? इसके जवाब में जेटली ने हाँ में जवाब दिया. फिर जेठमलानी की और से पुछा गया की आपको यह रिपोर्ट किसने दी तो उन्होंने कहा की मुझे इसकी जानकरी नही है. तब जेठमलानी ने कहा की आपको यह रिपोर्ट सांघी ने दी जो डीडीसीए जांच एजेंसी के अगुआ थे. इसके बाद ही आपकी सांघी के साथ दोस्ती हुई.

मालूम हो की पिछले साल दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार के दफ्तर पर सीबीआई ने रेड डाली थी. सीबीआई की रेड से नाराज हुए केजरीवाल ने तब अरुण जेटली पर आरोप लगाया था की चूँकि डीडीसीए घोटाले की जांच रिपोर्ट राजेन्द्र कुमार के दफ्तर में थी इसलिए उन पर सीबीआई की रेड डाली गयी. केजरीवाल का आरोप था की जेटली ने डीडीसीए में रहते हुए घोटाला किया था. इसके बाद जेटली ने केजरीवाल और पांच अन्य लोगो के खिलाफ मानहानि का मुक़दमा किया था.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?