अप्रैल 2016 में पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मुहम्मद का आतंकी बताकर गिरफ्तार किए गए शाकिर अंसारी को मंगलवार को विशेष अदालत ने बरी कर दिया हैं. अदालत में दिल्ली पुलिस शाकिर के खिलाफ कोई सबूत नहीं पेश कर पाई.

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने शाकिर को देवबंद स्थित उसके घर से गिरफ्तार किया था. शाकिर के साथ देवबंद और से 13 मुस्लिम नौजवानों को गिरफ्तार किया था. हालाँकि इनमे से दस को शुरुआती पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया था, जबकि तीन पर केस चल रहा था.

गिरफ्तारी के बाद शाकिर को मुख्य आरोपी करार देते हुए कहा गया था कि वह पाकिस्तान में जैश-ए-मुहम्मद के अपने आकाओं से लगातार संपर्क में था और आगामी दिनों में पाकिस्तान जाने की योजना बना रहा था. इसी के साथ दिल्ली पुलिस ने आरोप लगाया था कि इनके पास से एक आईईडी, 11 बैट्री, छह सूखी बैट्री, तीन पाइप तथा 250 ग्राम विस्फोटक पाउडर बरामद किया गया, जिनका इस्तेमाल बम बनाने में किया जाना था.

पुलिस अधिकारियों ने कहा था कि आतंकवादी मॉडयूल सक्रिय था और दिल्ली व एनसीआर में संवेदनशील तथा माल जैसे भीड़भाड़ वाले इलाकों को निशाना बनाने की साजिश कर रहा था.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें