मुंबई । बॉलीवुड के जाने में सिंगर सोनू निगम के एक ट्वीट ने पीछले साल हंगामा मचा दिया था। उन्होंने मस्जिद में होने वाली अजान पर सवाल उठाते हुए कहा था की अगर मैं मुस्लिम नही हूँ तो मैं अजान की आवाज़ सुनकर क्यों उठूँ। अपने इस ट्वीट में सोनू ने मंदिरो और गुरुद्वारों में बजने वाले लाउड्स्पीकर पर भी प्रतिबंध लगाने की माँग की थी। हालाँकि उसके बाद इस मुद्दे ने हवा पकड़ी और सोनू के ख़िलाफ़ कई मुस्लिम संगठनो ने आवाज़ उठायी। मामला बढ़ता देख सोनू ने अपने ट्वीट के लिए माफ़ी माँग ली।

लेकिन यह मुद्दा एक बार फिर सुर्ख़ियो में है। इस बार इस मुद्दे को हवा देने का काम किया है जाने माने लेखक जावेद अख़्तर ने। उन्होंने सोनू निगम की बात का समर्थन करते हुए कहा की मस्जिद में लाउडस्पीकर नही होने चाहिए। जावेद अख़्तर ने ट्वीट कर लिखा,’ मैं बताना चाहता हूं कि मैं सोनू निगम और उन सभी से पूरी तरह सहमत हूं जिनका मानना है कि मस्जिदों पर लाउडस्पीकर नहीं होने चाहिए। ना सिर्फ मस्जिद बल्कि रिहायशी इलाकों में स्थित किसी भी धार्मिक स्थल पर लाउडस्पीकर नहीं होना चाहिए।’

जावेद अख़्तर के इस ट्वीट के बाद हंगामा मच गया है। काफ़ी यूज़र जावेद को भला बुरा कह रहे है तो कुछ इस बात के समर्थन में भी है। काफ़ी लोगों का मानना है की धार्मिक स्थलों पर लाउड्स्पीकर नही होने चाहिए। ध्वनि प्रदूषण से बजने के लिए यह पहल करनी ज़रूरी है। ट्वीट के विरोध में आए कुछ लोगों का कहना है की ऐसे विवादित ट्वीट से बचना चाहिए। काफ़ी मुद्दे है जिस पर बात की जा सकती है।

बता दे की मंदिरो और मस्जिदों में इस्तेमाल होने वाले लाउडस्पीकर के विरोध में इलाहाबाद हाई कोर्ट में याचिका दाख़िल की गयी थी। जिसके बाद हाई कोर्ट ने योगी सरकार को निर्देश दिया था की जिन धार्मिक स्थलों पर बिना इजाज़त के लाउड्स्पीकर लगे हुए है उनको तुरंत हटा दिया जाए। इसके लिए कोर्ट ने 15 जनवरी की डेड्लाइन दी थी। फ़िलहाल योगी सरकार ने सभी धार्मिक स्थलों से प्रशासन से इजाज़त लेने के लिए कहा है।

This is to put on record that I totally agree with all those including Sonu Nigam who want that Loud speakers should not be used by the mosques and for that matter by any place of worship in residential areas .

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें