उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्यपाल अज़ीज़ कुरैशी ने एक बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि उन्हें मोहम्मद अली जौहर यूनिवर्सिटी रामपुर के बिल को मंज़ूरी देने से रोकने के लिए धमकाया गया था.

उन्होंने कहा, इस बिल को मंज़ूरी देने से पहले मुझे डराया धमकाया गया कि अगर मैंने बिल को मंजूर किया तो मुझे राज्यपाल के पद से बर्खास्त कर दिया जाएगा और यही हुआ. लेकिन मैं इन ताकतों के हाथों कमज़ोर नहीं हुआ. उन्होंने बताया, यूनिवर्सिटी के बिल को पिछले दो राज्यपालों ने मंज़ूरी नहीं दी थी.

पूर्व राज्यपाल अज़ीज़ कुरैशी के इस कारनामे की तारीफ़ करते हुए शहर काजी लखनऊ इरफ़ान मियां फिरंगीमहली ने कहा कि पूर्व राज्यपाल की बहादुरी को आने वाली नस्लें हमेशा याद रखेंगी. उन्होंने अपनी कौम के लिए विश्विद्यालय को मंजूरी दी और गवर्नरी के ओहदे को लात मार दी.

ध्यान रहें कि इरफ़ान मियां फिरंगीमहली शनिवार को पूर्व राज्यपाल से मिलने उनके आवास पहुंचे थे. इस दौरान उन्होंने देश के मौजूदा हालात पर चर्चा की.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें