जम्मू-कश्मीर: एनआईए की हिरासत में टीचर की मौ’त, परिजनों ने लगाया क’त्ल का आरोप

7:25 pm Published by:-Hindi News

श्रीनगर: दक्षिण कश्मीर के अवंतिपुरा से पुलिस द्वारा पूछताछ के लिए हिरासत में लिए गए एक 29 वर्षीय स्कूल प्रिंसिपल रिज़वान असद पंडित की मंगलवार को पुलिस हिरासत में मौत हो गई

जानकारी के अनुसार, एनआईए द्वारा कुछ दिनों पहले रिज़्वान को उठाया गया था और विशेष संचालन समूह (जम्मू-कश्मीर पुलिस के एसओजी) शिविर में पूछताछ के लिए रखा गया था। स्थानीय लोग पुलिस हिरासत में असद पंडित की मौत को जानबूझकर की गई हत्या बता रहे हैं।

इंडियन एक्सप्रेस की ख़बर के मुताबिक़, पीड़ित के परिवार ने आरोप लगाया कि भारतीय अधिकारियों ने पुलिस हिरासत में रिज़वान असद पंडित की हत्या की है। हालांकि पुलिस का कहना है कि असद पंडित की मौत के कारणों पता लगाने के लिए जांच की जाएगी।

इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए रिज़वान के बड़े भाई मुबाशिर असद ने कहा, ‘हम किसी भी जांच में विश्वास नहीं करते हैं. हमने पहले आदेश दिए गए जांच के परिणामों को देखा है। हमारी केवल एक मांग है, हमें बताया जाए कि किस अपराध के लिए उन्हें हिरासत में लिया गया था और हत्या की गई है। वह पूरी तरह से स्वस्थ थे और हिरासत में उसकी हत्या कर दी गई थी। हम चाहते हैं कि उसकी हत्या में शामिल लोगों को अदालत में लाया जाए और फांसी दी जाए।’

मुबाशिर बायोकेमिस्ट्री में एमएससी किए हुए हैं और पंपोर के दिल्ली मॉडर्न पब्लिक स्कूल में पढ़ाते हैं। नेशनल कॉन्फ्रेंस, पीडीपी, कांग्रेस और भाजपा की सहयोगी पार्टी पीपुल्स कॉन्फ्रेंस ने इस घटना की निंदा करते हुए इसे ‘अस्वीकार्य’ करार दिया और इसमें ‘हत्यारों’ के लिए ‘उदाहरणात्मक दण्ड’ की मांग की है।

नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने रिज़वान की मौत की समयबद्ध जांच कराने और इसके लिए जिम्मेदार लोगों को कड़ी सजा देने की  मांग की। अब्दुल्ला ने ट्वीट किया, ‘मुझे उम्मीद थी कि हिरासत में मौतें हमारे काले अतीत की चीज थीं। यह एक अस्वीकार्य घटनाक्रम है और इसकी पारदर्शी तथा समयबद्ध तरीके से जांच की जानी चाहिए। इस युवक के कातिलों को कठोर सजा दी जाए।’

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें