गोलीबारी से पहले FB पर लाइव था जामिया मार्च पर गोली चलाने वाला ‘रामभक्त गोपाल’

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ दिल्ली में जामिया मिल्लिया इस्लामिया (JMI) विश्वविद्यालय से राजघाट तक निकाले जा रहे शांतिमार्च पर गोलीबारी करने वाले शख्स की पहचान रामभक्त गोपाल के रूप में हुई है। वह ग्रेटर नोएडा के जेवर का रहने वाला है।

आरोपी शख्स ने इस घटना को अंजाम देने से पहले फेसबुक लाइव किया था। फेसबुक पर उसने यह भी लिखा है कि चंदन का बदला लेने जा रहा है। गोली चलाते वक्त ‘यह लो आज़ादी’ कहते सुने गए रामभक्त गोपाल ने एक शख्स को ज़ख्मी किया, जिसका नाम शादाब फारुक है।

अपने एक फेसबुक पोस्ट में आरोपी शख्स ने लिखा, ”शाहीन भाग खेल खत्म।” अपने एक दूसरे पोस्ट में उसने लिखा, ”कोई हिंदू मीडिया नहीं है यहां।” उसने एक और पोस्ट में लिखा, ”मेरी अंतिम यात्रा पर…मुझे भगवा में ले जाये…और जय श्री राम के नारे हो।” उसने ये भी लिखा कि ”मेरे घर का ध्यान रखना।”

जामिया की घटना को लेकर आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने कहा कि इससे साफ हो गया है कि जब से देश के गृह मंत्री अमित शाह बने हैं दिल्ली की कानून व्यवस्था लगातार बद से बदतर होती जा रही है। कभी 24 घंटे में 9 लोगों की हत्या हो जाती है, एक महीने में 220 राउंड फायरिंग दिल्ली की सड़कों पर होती है।

उन्होने कहा, कभी वकीलों के ऊपर गोलियां चलती हैं कभी छात्रों के ऊपर लाठियां चलती हैं और आज जो कुछ भी जामिया में हुआ उससे साफ हो गया है कि भारतीय जनता पार्टी एक सुनियोजित साजिश के तहत हार के डर के कारण दिल्ली का माहौल बिगाड़ना चाहती है।

विज्ञापन