Saturday, October 23, 2021

 

 

 

PM मोदी से मिले शाही इमाम बुखारी, ISIS से संबंधों के आरोप में मुस्लिम युवाओं को पकड़े जाने का मुद्दा उठाया

- Advertisement -

पीएम मोदी से मिले बुखारी 

- Advertisement -

दिल्‍ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम बुखारी सोमवार को पीएम मोदी से मिलने पहुंचे। शाही इमाम के ऑफिस की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, मुलाकात के दौरान उन्‍होंने प्रधानमंत्री के सामने उन युवाओं का मुद्दा उठाया, जिन्‍हें इस्‍लामिक स्‍टेट (ISIS) से संबंधों के आरोपों में पकड़ा जा रहा है।

अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी तथा जामिया मिल्लिया पर भी की बात 

सूत्रों के मुताबिक, इमाम बुखारी सोमवार दोपहर सात रेसकोर्स रोड पहुंचे थे। प्रधानमंत्री से मुलाकात के दौरान उन्‍होंने पूरे मामले में पारदर्शिता बरतने की बात कही और जामिया मिलिया इस्‍लामिया तथा एएमयू मुद्दे पर भी चर्चा की। इन दोनों यूनिवर्सिटी के अल्पसंख्यक दर्जे को लेकर विवाद चल रहा है।

350 वर्ष पुरानी परम्परा है शाही ईमाम की 

जामा जामा मस्जिद 1656 में तैयार हुई थी। 24 जुलाई 1656, दिन सोमवार ईद के मौके पर मस्जिद में पहली नमाज पढ़ी गई। नमाज के बाद इमाम गफूर शाह बुखारी को बादशाह की तरफ से भेजी गई खिलअत (लिबास और दोशाला) दी गई और शाही इमाम का खिताब दिया गया। तभी से शाही इमाम की यह रवायत बरकरार है।

मोदी से नही रहे है सम्बन्ध अच्छे 

आपको बता दें कि शाही इमाम बुखारी के नरेंद्र मोदी के साथ अच्‍छे रिश्‍ते नहीं रहे हैं। 22 नवंबर 2014 को उन्‍होंने अपने बेटे शाबान को उत्‍तराधिकारी (शाही नायब इमाम) घोषित किया था। शाबान की दस्‍तारबंदी का कार्यक्रम नेशनल मीडिया में चर्चा का कारण बना था, क्‍योंकि उन्‍होंने पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री को न्‍योता भेजा था, लेकिन पीएम नरेंद्र मोदी को नहीं बुलाया था। इसकी वजह बताते हुए बुखारी ने कहा था, ‘देश के मुसलमान अब तक उनसे (मोदी से) जुड़ नहीं पाए हैं। पीएम को मुसलमानों में विश्वास जगाने के लिए आगे आना चाहिए।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles