गुजरात चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और पाकिस्तान के सबंध में दिए गए बयान को लेकर आज वित्तमंत्री अरुण जेटली से सफाई पेश की है.

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राज्यसभा में कहा कि पीएम मोदी की ऐसी कोई मंशा नहीं थी कि जिससे पूर्व पीएम मनमोहन या फिर पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी की देशभक्ति पर कोई सवाल खड़ा होता हो. उन्होंने कहा, इस तरह का कोई भी कयास लगाना गलत है. हम इन नेताओं और उनका भारत के प्रति उनकी प्रतिबद्धता का काफी सम्मान करते हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस मामले में शीतकालीन सत्र की शुरुआत से ही कांग्रेस पूर्व पीएम मनमोहन सिंह पर टिप्पणी के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से माफी की मांग कर रही थी. जिसके चलते लगातार राज्यसभा की कार्यवाही बाधित हो रही थी.

ध्यान रहे प्रधानमंत्री मोदी ने  गुजरात में एक चुनावी रैली में कहा था कि कांग्रेस के नेताओं ने पाकिस्तान के पूर्व मंत्री और डिप्लोमैट्स के साथ ‘गुप्त बैठक’ की थी ताकि बीजेपी गुजरात विधानसभा का चुनाव हार जाए. इस बैठक में पाकिस्तान के उच्चायुक्त, विदेश मंत्री सहित पूर्व पीएम मनमोहन सिंह और पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने हिस्सा लिया था.

स्पष्टीकरण के सामने आने के बाद विपक्ष के नेता गुलाम नबी आज़ाद ने भी कहा कि हम ये विश्वास दिलाते हैं कि अब सदन को चलाने में विपक्ष की ओर से सरकार को सहयोग दिया जाएगा. गुलाम नबी ने कहा कि इस मामले पर स्पष्टीकरण देने के लिए धन्यवाद.