jain guru tarun sagar 1513147464

फिल्म निर्देशक संजय लीला भंसाली निर्देशित पद्मावत उर्फ़ पद्मावती को लेकर देश भर में मचे हंगामे के बीच विख्यात जैन मुनि तरुण सागर ने विरोध कर रहे राजपूत समुदाय को अपने कड़वे वचन सुनाए है. जिसके तहत उन्होंने कहा, जो देश की सर्व्वोच अदालत का फैसला नहीं मान रहा वो कैसे भारतीय हो सकता है ?

जैन मुनि ने कहा है कि राज्य सरकारों की याचिका सुनने से इनकार कर एक बार फिर सुप्रीम कोर्ट ने बताया दिया है कि वह सर्वोच्य कोर्ट है. ऐसे में जो सुप्रीम कोर्ट का आदेश न माने वो कैसा हिंदुस्तानी? ऐसे लोगों को हिंदुस्तानी कहने पर भी शंका है.

ध्यान रहे देश भर में पद्मावत को रिलीज करने के आदेश देने के बाद आज सुप्रीम कोर्ट ने राजस्‍थान और मध्‍य प्रदेश सरकार की उस पुनविर्चार याचिका को खारिज कर दिया है. जिसमे कानून व्यवस्था का हवाला देकर पूर्व आदेश को रद्द कर फिल्म पर बैन की मांग की गई थी.

सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस ने कहा कि ये कोई इतिहास से छेड़छाड़ नहीं है. विशेषज्ञों ने फिल्म देखी है और इसमें डिस्‍कलेमर भी है. लोगों को समझना चाहिए कि सुप्रीम कोर्ट ने आदेश जारी किया है इसका पालन होना चाहिए. हालांकि राज्य लोगों को सलाह दे सकता है कि फिल्म ना देखें.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि क्या कुछ लोग कानून व्यवस्था में बाधा डाल रहे हैं तो क्या फिल्म को बैन किया जाए? कोर्ट ने आदेश जारी किया है, सेंसर बोर्ड ने सर्टिफिकेट दिया है, इसे समझना चाहिए.