बंगलौर | नोट बंदी के बाद से आयकर विभाग लगातार छापेमारी कर रहा है. उनके निशाने पर वो लोग रहे है जिनकी इनकम और इन्वेस्टमेंट ज्यादा है लेकिन वो टैक्स नही चुका रहे है. आयकर विभाग पहले ही कह चुका है की नोट बंदी के दौरान जिनके खातो में 10 लाख रूपए या इससे अधिक की रकम जमा हुई , वो सब उनके राडार पर है और बहुत जल्द सबको नोटिस देकर इस रकम का स्रोत पुछा जाएगा.

आयकर विभाग की ताजा कार्यवाही में कर्नाटक के एक मंत्री और महिला कांग्रेस प्रमुख के यहाँ छापेमारी की गयी है. इस छापेमारी में आयकर विभाग ने 162 करोड़ रूपए की अघोषित सम्पति जब्त की. जिसमे 41 रूपए कैश और 12 किलो सोना जब्त किया गया. मिली जानकारी के अनुसार , आयकर विभाग के अफसरों को पिछले हफ्ते से ही इस बेनामी संपत्ति की जानकारी थी.

आयकर विभाग ने कर्नाटक के मंत्री रमेश एल जारकीहोली और महिला कांग्रेस प्रमुख लक्ष्मी आर हेब्बालकर के गोकाक और बेलगाम स्थित घरो पर छापेमारी की. इस छापेमारी में कई बेनामी संपत्ति और कुछ ऐसे इन्वेस्टमेंट सामने आये जिनके बारे में कोई कागजात ही उपलब्ध नही थे. इस छापेमारी में कुछ बेनामी कोऑपरेटिव सोसाइटीज के कागजात भी बरामद हुए.

आयकर विभाग ने बताया की कागजातों में कुछ फर्जी कंपनियों में भी इन्वेस्टमेंट दिखाया गया है. इसके अलावा हवाला के जरिये भी कुछ बैंक ट्रांसेक्सन किये गए है. आयकर विभाग की कार्यवाही पर प्रतिक्रिया देते हुए मंत्री रमेश ने कहा की यह मेरे खिलाफ राजनितिक साजिश है क्योकि मैंने कुछ भी गलत नही किया है. इसके अलावा आयकर विभाग की कार्यवाही में हमने पूरा सहयोग किया है. भविष्य में भी अगर वो ऐसी कोई कार्यवाही करते है तो उनका पूरा सहयोग किया जाएगा.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें