Sunday, August 1, 2021

 

 

 

ब्रह्मोस जासूसी: आईएसआई एजेंट निशांत अग्रवाल को ट्रांजिट रिमांड पर भेजा गया

- Advertisement -
- Advertisement -

नागपुर. महाराष्ट्र के नागपुर में स्थित ब्रह्मोस यूनिट से पाकिस्तान को ब्रह्मोस मिसाइल संबंधी जानकारी लीक करने के आरोपी निशांत अग्रवाल को सेशंस कोर्ट ने तीन दिन की ट्रांजिट रिमांड पर यूपी पुलिस को सौंप दिया। रिमांड मिलने के बाद यूपी एटीएस निशांत को यूपी ला सकती है, जहां उससे आगे की पूछताछ की जाएगी।

निशांत को सोमवार को उत्तर प्रदेश एंटी टेरर स्क्वॉड (एटीएस) और मिलिटरी इटेलिजेंस के मिलकर गिरफ्तार किया है।यूपी एटीएस के आईजी असीम अरुण ने बताया कि DRDO में कार्यरत निशांत अग्रवाल के कंप्यूटर से काफी संवेदनशील जानकारियां हाथ लगी है।

उन्होंने कहा कि निशांत अग्रवाल के कंप्यूटर से उसके पाकिस्तान स्थित आईडी पर फेसबुक के जरिए चैटिंग के भी सबूत हाथ लगे हैं। अरुण ने बताया कि कुछ महीने पहले एक बीएसएफ का जवान गिरफ्तार किया गया था और जांच के दौरान तीन फर्जी फेसबुक आईडी का पता चला, जो पाकिस्तान आधारित आईडी से संचालित होता था।

जांच में इस बात की पुष्टि हुई है कि निशांत अग्रवाल जो कि एक इंजिनियर है वो पाकिस्तान के आईपी एड्रेस से संचालित होने वाले फेसबुक आईडी से चैटिंग से माध्यम से संपर्क में था। अरुण ने बताया कि नागपुर के अलावा आगरा और कानपुर में भी रेड हुई है. हमारा मानना है कि उसके लैपटॉप से जो संवेदनशील जानकारियां मिली हैं वो उसके पास नहीं होनी चाहिए थी।

निशांत पिछले चार साल से डीआरडीओ की नागपुर यूनिट में काम कर रहा है। ब्रह्मोस एयरोस्पेस भारत के रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन और रूस के एनपीओएम का संयुक्त उपक्रम है। पिछले साल इसने हथियार प्रणाली के आधुनिक संस्करणों का परीक्षण किया था। ब्रह्मोस दुनिया की सबसे तेज सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल है। यह आवाज की गति से करीब तीन गुना गति से हमला करने में सक्षम है।

इसे पनडुब्बी से, पानी के जहाज से, विमान से या जमीन से भी छोड़ा जा सकता है। यह कम ऊंचाई पर तेजी से उड़ान भरती है और इस तरह राडार की आंख से बच जाती है। यह मिसाइल भूमिगत परमाणु बंकरों, कमान एंड कंट्रोल सेंटर्स और समुद्र के ऊपर उड़ रहे विमानों को दूर से ही निशाना बनाने में सक्षम है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles