पाकिस्तान की सैन्य अदालत द्वारा दी गई फांसी की सज़ा का सामना कर रहे कुलभूषण जाधव के मामले को भारत द्वारा अंतराष्ट्रीय न्यायालय में ले जाने को सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मार्कण्डेय काटजू ने मोदी सरकार की सबसे बड़ी गलती करार दिया हैं.

उन्होंने इस बारें में फेसबुक पर लिखा कि भारत के इस फैसले से पकिस्तान को ख़ुशी मिली होगी. हमने एक व्यक्ति के भविष्य से जुड़े मामले को अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में उठा कर सभी तरह के मुद्दों, खास तौर पर कश्मीर विवाद को अंतरराष्ट्रीय मंच पर उठाने का मौका दे दिया है. अब भविष्य में वह इन मुद्दों को अंतराष्ट्रीय मंच पर उठा सकेगा.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

काटजू ने आगे लिखा कि इस फैसले ने विवादों का पिटारा खोल दिया है. पाकिस्तान ने आईसीजे के क्षेत्राधिकार के सवाल पर बहुत मामूली विरोध किया, क्योंकि उसे इसके बाद दूसरे मुद्दों को यहां पर उठाने का मौका मिलता दिखाई दे रहा था. ऐसे में अब वह निश्चित तौर पर कश्मीर का मुद्दा उठाएगा और भारत इसका विरोध नहीं कर पाएगा.

उन्होंने इसकी वजह बताते हुए लिखा कि अंतरराष्ट्रीय न्यायालय के क्षेत्राधिकार पर दो तरह की दलीलें नहीं दी जा सकतीं है.

Loading...