मंगलवार को राष्ट्रपति के अभिभाषण के दौरान संसद में दिल का दौरा पड़ने के बाद यूनियन मुस्लिम लीग के राष्ट्रीय अध्यक्ष ई. अहमद का निधन हो गया हैं.

बजट सत्र के पहले दिन संसद के संयुक्त सत्र में जब राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का अभिभाषण चल रहा था, उसी दौरान ई अहमद को कार्डियक अरेस्ट हुआ और वे बेहोश होकर गिर गए थे.  जिसके बाद उन्हें राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया था. कई घंटों के इलाज के बाद रात 2:15 बजे डॉक्टरों ने परिवार वालों को बताया कि उनकी मृत्यु हो गयी है.

परिवार वालों को नहीं मिलने दिया गया:

उनकी पार्टी के केरल से सांसद ईटी मोहम्मद बशीर के अनुसार, ‘अहमद के परिवार वालों को अस्पताल के भीतर जाने नहीं दिया गया. इसके बाद अस्पताल में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी अपने बेटे राहुल गांधी के साथ पहुंचीं. इनके साथ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ग़ुलाम नबी आज़ाद और अहमद पटेल भी थे.”

बशीर ने बताया कि अहमद पटेल की बेटी ख़ुद डॉक्टर हैं और उन्हें भी अस्पताल प्रशासन ने अंदर नहीं जाने दिया. बशीर ने कहा कि उनकी बेटी फौज़िया घंटों अस्पताल के बाहर इंतज़ार करती रहीं, लेकिन अंदर नहीं जाने दिया गया. उन्होंने कहा कि अस्पताल का व्यवहार पूरी तरह से अप्रत्याशित और अमानवीय था. बशीर ने कहा कि अहमद को लेकर अस्पताल ने परिवार वालों के साथ भी गोपनीयता रखी. उन्होंने कहा कि फौज़िया को अपने पिता को देखने का पूरा हक़ था.

कौन थे सांसद ई. अहमद?

ई. अहमद केरल की मालाप्पुरम लोकसभा सीट से सांसद थे. वे इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे. मनमोहन सिंह की सरकार में विदेश राज्यमंत्री थे. मुस्लिम लीग से सांसद ई अहमद यूपीए सरकार के दौरान रेल राज्य मंत्री भी रहे. ई अहमद का जन्म 29 अप्रैल 1938 को हुआ था. अहमद केरल विधानसभा से 1967, 1977, 1980, 1982 और 1987 में विधायक चुने गए. वह 1982 से 1987 तक केरल सरकार में कैबिनेट मंत्री भी रहे. अहमद 1991, 1996, 1998, 1999, 2004 और 2009 में लोकसभा के लिए चुने गए. वह 2004 से 2009 के बीच विदेश राज्यमंत्री भी रहे.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें