भारत सरकार ने अमेरिका के उस प्रस्ताव को ठुकरा दिया है जिसमें अमेरिका ने अफगानिस्तान में अमेरिकी सैनिको के साथ भारतीय सैनिको को तैनात करने की बात कही थी.

अमेरिका ने भारत से मांग की थी कि भारतीय सैनिको को तैनात कर वह आतंकवादियों से लड़ाई में अमेरिका का साथ दे. भारत ने अमेरिका की मांग ठुकराते हुए कहा कि वह युद्ध प्रभावित अफगानिस्तान के पुनर्निर्माण और विकास कार्यों में मदद जारी रखेगा.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने अमेरिका के रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस के साथ द्विपक्षीय वार्ता के बाद कहा कि दोनों देशों ने अपने रक्षा संबंधों को और मजबूत करने के तौर तरीकों के साथ ही पाकिस्तान पोषित आतंकवाद और अफगानिस्तान से जुड़े अहम मुद्दों पर भी चर्चा की.

सीतारमण ने कहा, “अफगानिस्तान में भारत का योगदान लंबे समय से रहा है. भारत वहां बांधों, स्कूलों, अस्पतालों, सड़कों और अन्य संस्थानों के निर्माण में सहयोग दे रहा है.” उन्होंने कहा, “हम अच्छे सुशासन के लिए उनके अधिकारियों को प्रशिक्षण भी दे रहे हैं. भारत वहां अपना योगदान दे रहा है और हम जरूरत पड़ने पर इसमें विस्तार करेंगे.”

इस दौरान मैट्टिस ने कहा कि दो देशों ने आतंकवाद से वैश्विक शांति के लिए खतरे को पहचाना है, और दोनों देश इस बात पर सहमत हैं कि आतंकवादियों के सुरक्षित पनाहगाहों को बर्दाशत नहीं किया जाएगा.

Loading...