गलती से पाकिस्तान की सीमा में घुसे भारतीय सैनिक चंदू बाबूलाल चव्हाण को रिहा कर दिया गया है. पाकिस्तान की ओर से शनिवार को आधिकारिक बयान जारी करके इस बात की घोषणा की गई कि वाघा सीमा पर चंदू को भारत को सौंपा जा रहा हैं.

पाकिस्तान ने अपने बयान में कहा कि सिपाही चंदू बाबूलाल चव्हाण को ‘मानवीय’ आधार पर वाघा सीमा पर भारतीय अधिकारियों के हवाले कर दिया गया. चव्हाण गत 29 सितम्बर को भटक कर सीमा पार कर गया था जहां पाकिस्तानी सैनिकों ने उसे पकड़ लिया था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बाईस वर्षीय 37 राष्ट्रीय रायफल्स के जवान चंदू भारत की सर्जिकल स्ट्राइक के कुछ घंटे बाद गलती से एलओसी पार करके पाकिस्तान सीमा में प्रवेश कर गया था. जवान महाराष्ट्र के धुले जिले के बोरविहीर गांव से है. पाकिस्तान ने इस जवान को संद्भावना का संकेत देते हुए छोड़ दिया है.

इंटर सर्विस पब्लिक रिलेशंस ने एक बयान में कहा कि सद्भावना का संकेत देते हुए और एलओसी पर शांति कायम रखने के मकसद के कारण बाबूलाल को अपने देश जाने दिया गया. मानवीय आधार पर भारतीय अधिकारियों को चंदू को वाघा बार्डर पर सौंप दिया गया.

Loading...