Friday, December 3, 2021

भारतीय सेना ने घायल सैनिकों की जान बचाने के लिए करीमुल हक को चुना

- Advertisement -

दो दशकों तक हजारों बीमार और घायल मरीजों को अस्पताल ले जाने के लिए भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मानों में से एक पद्मश्री प्राप्त करने वाले करीमुल हक अब दूरदराज के इलाकों से घायल सैनिकों को एम्बुलेंस के इंतजार के बिना अस्पताल पहुंचाने के सुझाव रक्षा मंत्रालय को दे रहे हैं।

पश्चिम बंगाल के जालीगुड़ी क्षेत्र में एक चाय बागान कार्यकर्ता 53 वर्षीय करीमुल हक, अपने जीवनकाल में अनगिनत ग्रामीणों के जीवन को बचाने के लिए एक पौराणिक कथा बन गए है, जो उन्हें ‘एम्बुलेंस बाइक’ पर सरकारी क्लीनिकों तक ले जाते है।

पिछड़े क्षेत्रों में हक की सामाजिक सेवा को स्वीकार करते हुए तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने उन्हे पद्मश्री से सम्मानित किया था। जिसके बाद वे देश भर मे प्रसिद्ध हो गए थे। और अब भारत की सशस्त्र बल हक की विशेषज्ञता को टैप कर रही हैं।

वे उनसे जंगली पटरियों, जंगलों और बाढ़ वाले इलाकों में तेजी से परिवहन के रहस्यों से सीखना चाहते हैं जहां सड़कों का अस्तित्व नहीं है। हक ने अल अरबिया अंग्रेजी को बताया कि दिवाकर राव, रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के तकनीकी निदेशक, हाल ही में मालबाजार में उनके घर आए और कई सवाल किए।

“दिवाकर साहेब  ने मुझे वीआईपी की तरह महसूस किया, हालांकि स्पष्ट रूप से मुझे उन्हे बताने के लिए बहुत कम था। मैंने सीमावर्ती क्षेत्रों में आपातकालीन निकासी संचालन के लिए जीवन-बचत ऑक्सीजन सिलेंडर और नमकीन बोतलों के साथ फिटिंग बाइक का सुझाव दिया। मैंने यह भी दोहराया कि दो व्हीलर पर जीवन और मृत्यु के बीच अंतर बना सकते हैं क्योंकि वे उचित सड़कों की अनुपस्थिति में चार पहियों पर एम्बुलेंस की तुलना में बहुत तेज हैं। “

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, हक 1 99 8 से अपने मोटरसाइकिल पर 3000 से ज्यादा मरीजों को अस्पताल ले जा चुके है। और वह सेवा के लिए कुछ भी चार्ज नहीं करते  है, हालांकि पेट्रोल की कीमतें बढ़ती रहती हैं और औसतन रोगी के घर से उन्हें अस्पताल पहुंचने के लिए 50 किमी तक कवर करना पड़ता है।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles