नई दिल्ली। सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) और सऊदी अरब के दौरे पर बुधवार को रवाना हो गए। जनरल नरवणे अगले सात दिनों तक यूएई (United Arab Emirates-UAE) और सऊदी अरब (Saudi Arabia) की यात्रा पर रहेंगे।

जनरल नरवणे की ये यात्रा ऐतिहासिक यात्रा है। दरअसल, पहली बार कोई भारतीय जनरल यूएई और सऊदी अरब की यात्रा पर जा रहा है। सेना प्रमुख की इस यात्रा का मकसद खाड़ी क्षेत्र के दोनों प्रभावशाली देशों के साथ रक्षा व सुरक्षा संबंधों को और मजबूत बनाना है।

सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे चार दिन के दौरे पर दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों से मुलाकात करेंगे और सऊदी नेशनल डिफेंस यूनिवर्सिटी को भी संबोधित करेंगे। इसके अलावा जनरल नरवणे रॉयल सऊदी लैंड फोर्स, जॉइंट फोर्स कमांड हेडक्वार्टर और किंग अब्दुल अजीज वॉर कॉलेज भी जाएंगे।

सऊदी अरब भारत का प्रमुख व्यापारिक साझेदार होने के साथ-साथ ऊर्जा का बड़ा स्रोत भी है। भारत कच्चे तेल की अपनी जरूरतों का करीब 18 फीसद सऊदी अरब से ही आयात करता है। इसके अलावा वह भारत के लिए एलपीजी का भी बड़ा स्रोत है।

वहीं कतर, यूएई और सऊदी अरब ब्रह्मोस मिसाइल खरीदना चाहते हैं। 2017 में भारत ने अबू धाबी के क्राउन प्रिंस की यात्रा के अवसर पर यूएई को ब्रह्मोस मिसाइल की पेशकश की। तीन साल में कई वार्ताएं हो चुकी हैं, इसलिए सेना प्रमुख से यात्रा के दौरान इस मामले पर भी चर्चा हो सकती है।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano