भारत शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के सरकार प्रमुखों की परिषद की वार्षिक बैठक में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को आमंत्रित करेगा। बता दें कि यह पहला मौका है जब भारत आठ देशों के इस वैश्विक संगठन की मेजबानी करेगा।

हालांकि, पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान बैठक में भाग लेते हैं या नहीं, इस बारे में अंतिम निर्णय इस्लामाबाद लेगा। फिलहाल, तारीख तय नहीं हैं। पिछले साल समिट किर्गिस्तान में आयोजित की गई थी। इमरान खान और नरेंद्र मोदी ने भी हिस्सा लिया था।

पाकिस्तान के अखबार ‘द न्यूज’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, अब तक यह साफ नहीं हो सका है कि पाकिस्तान भारत में होने वाले समिट में हिस्सा लेने का न्योता मंजूर करेगा या नहीं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक एक अधिकारी ने बताया कि प्रोटोकॉल और सम्मेलन के अनुसार पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को भारत आने का निमंत्रण दिया जाएगा। यह पाकिस्तान पर निर्भर करेगा कि वह इस समिट में हिस्सा लेना चाहता है या नहीं।

संगठन के महासचिव व्लादिमीर नोरोव ने सोमवार को कहा- शंघाई सहयोग संगठन की वार्षिक बैठक भारत में होगी। यह पहला मौका है जब भारत आठ देशों के इस वैश्विक संगठन की मेजबानी करेगा। भारत के अलावा चीन, रूस, कजाखकिस्तान, किर्गिस्तान, ताजिकिस्तान, पाकिस्तान और उज्बेकिस्तान एससीओ के सदस्य हैं। पिछला सम्मेलन किर्गिस्तान में आयोजित किया गया था। इसमें सभी प्रकार के आतंकवाद पर रोक लगाने का प्रस्ताव पारित किया गया था। मोदी और इमरान दोनों ने इसमें शिरकत की थी। बाद में पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा था कि दोनों नेताओं ने एक-दूसरे की कुशलक्षेम पूछी। इसके अलावा कोई बात नहीं हुई। एससीओ की एक बैठक जुलाई में भी प्रस्तावित है। इसमें भी सदस्य देशों के राष्ट्राध्यक्ष हिस्सा ले सकते हैं।

सामान्यत: एससीओ के सरकार प्रमुखों की बैठक में विदेश मंत्री प्रतिनिधित्व करते हैं। वहीं कई देश इसमें अपने प्रधानमंत्री भी भेजते हैं। इस बैठक में भारत का प्रतिनिधित्व हमेशा विदेशा मंत्री करते रहे हैं जबकि एससीओ राष्ट्राध्यक्षों की बैठक में प्रधानमंत्री शामिल होते हैं। पाकिस्तान भी एसएसीओ का सदस्य है और भारत में होने वाली बैठक में यह देखना रोचक होगा कि उसका कौन प्रतिनिधित्व करता है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन