इंडिया टुडे प्रबंधन ने वरिष्ठ पत्रकार और इंडिया टुडे के कंसल्टिंग एडिटर राजदीप सरदेसाई को दो हफ्ते के लिए ऑफ़ एयर कर दिया गया है और साथ ही उनकी एक महीने की सैलरी भी काट ली गयी है। उन पर फेक न्यूज़ फैलाने का आरोप है।

जानकारी के मुताबिक सरदेसाई पर यह कार्रवाई सोशल मीडिया पर उनके कुछ कथित फेंक पोस्ट्स को लेकर की गई है। दरअसल 26 जनवरी को हुई किसान रैली में हिंसा के बाद राजदीप सरदेसाई ने एक ट्वीट किया था। इसी ट्वीट को उनके खिलाफ कार्रवाई की वजह माना जा रहा है।

इस सबंध में राजदीप की पत्नी सागरिका घोष ने ट्वीट करते हुए लिखा है कि हमने इन सब आपाधापी में असली मुद्दे और 24 वर्षीय मृतक किसान को ही भुला दिया है। उन्होने लिखा,हमने इन सब आपाधापी में असली मुद्दे को ही खो दिया है।

सागरिका ने ट्वीट करते हुए लिखा कि तेजी से बदलती कहानियों में हर समय कुछ ना कुछ परिवर्तन होता रहता है। साथ ही सागरिका ने यह भी लिखा कि उस स्टोरी को मिनटों में ही ठीक कर दिया गया था लेकिन चिंता की बात यह है कि हमने इन सब के दौरान वास्तविक मुद्दों को ही खो दिया और 24 वर्षीय किसान की मौत को भी पीछे छोड़ दिया।

वहीं सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी एम नागेश्वर राव ने उन्हें लेकर लिखा, “राजदीप भारत के विरोध में उकसाने के लिए जाने जाते हैं।” उन्होंने इंडिया टुडे से सरदेसाई की बातचीच का एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा, “यह वीडियो स्पष्ट रूप से भारत सरकार के खिलाफ जंग छेड़ने के अपराध को स्थापित करता है जो आईपीसी धारा 121 के तहत दंडनीय है जिसकी सजा मौत या आजीवन कारावास होती है। दिल्ली पुलिस को इसे हिरासत में लेना चाहिए।”

इसके अलावा उत्तर प्रदेश पुलिस ने कांग्रेस सांसद शशि थरूर, न्यूज एंकर राजदीप सरदेसाई समित सात लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया है। नोएडा के सेक्टर 20 थाने में इन लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया है। अभिजीत मिश्रा नाम के एक शख्स की ओर से दी गई शिकायत के आधार पर दर्ज एफआईआर में कहा गया है।