म्यांमार से जान बचाकर बांग्लादेश में रह रहे रोहिंग्या मुस्लिम शरणार्थियों के लिए भारत सरकार ने ऑपरेशन ‘इंसानियत’ शुरू किया है. जिसके तहत भारत सरकार की और से लगातार मानवीय सहायता भेजी जा रही है.

आंध्र प्रदेश के काकीनाडा बंदरगाह में नौसेना के पोत आईएनएस घड़ियाल पर करीब 700 टन राहत सामग्री लादी जा रही है, ताकि इसे बांग्लादेश के चटगांव ले जाया जा सके. भारत पहले ही 53 टन राहत सामग्री भेज चूका है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस राहत सामग्री को करीब 62,000 परिवारों में बांटे जाने की संभावना है. इसमें खाद्य पदार्थ, कपड़े और मच्छरदानी सहित कई अन्य सामान हैं. ध्यान रहे भारत ने बांग्लादेश को 7,000 टन राहत सामग्री प्रदान करने का फैसला किया है.

कुछ दिनों पहले नई दिल्ली में बांग्लादेश उच्चायुक्त सईद मुआअजम अली ने विदेश सचिव एस जयशंकर से मुलाकात कर रोहिंग्या के विषय में विस्तार से चर्चा की थी. जिसके बाद भारत सरकार ने ऑपरेशन ‘इंसानियत’ शुरू किया था.

गौरतलब रहे कि बांग्लादेश में 430000 रोहिंग्या शरणार्थियों ने शरण ली है. जिनके लिए दुनिया भर से मानवीय सहायता भेजी जा रही है.

Loading...