Monday, November 29, 2021

कर्नाटक चुनाव होते ही बढ़ गये पेट्रोल-डीजल के दाम

- Advertisement -

सरकारी तेल कंपनियों ने अब पेट्रोल के दाम बढ़ने शुरू कर दिए है. तेल की कीमतों में बढ़ोतरी कर्नाटक चुनाव के बाद से दर्ज की गयी है. आज से पेट्रोल के दाम 17 पैसे और डीजल के भाव 21 पैसे प्रति लीटर बढ़ गये है. आपको बता दें कि बढ़ती कीमतों में फर्क 19 दिनों बाद किया गया है. इस बदलाव के बाद दिल्‍ली में पेट्रोल की कीमत 74.63 से बढ़कर 74.80 रुपए प्रति लीटर और डीजल 65.93 रुपए से बढ़कर 66.14 रुपए प्रति लीटर हो गयी है.

तेल की कीमतों में इज़ाफा की वजह

तेल की बड़ी कंपनियों को भरे नुक्सान के चलते तेल की कीमतें बढ़ाई गयी है. तेल कंपनियों ने कर्नाटक चुनाव के लिए मतदान होने से पहले करीब तीन हफ्ते से पेट्रोल-डीजल की कीमतों को स्थिर रखा था. 12 मई को कर्नाटक में मतदान हुए. इसके बाद कीमतों में वृद्धि हुई है. 14 मई को तेल कंपनियों ने फिर से कीमतों की रोज समीक्षा शुरू कर दी. पेट्रोल-डीजल की कीमतों में 19 दिन तक बदलाव नहीं करने से तेल कंपनियों को करीब 500 करोड़ रुपए के नुकसान का अनुमान है.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में कच्‍चे तेल की कीमतों में तेजी और डॉलर के मुकाबले रुपए के कमजोर होने से उनकी लागत में इजाफा हुआ है. अरब देशों में भी तेल की कीमतें बढ़ाई जा रही है. पिछले हफ्ते इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (आईओसी) के चेयरमैन संजीव सिंह ने कहा था कि तेल कंपनियां कीमतों में तेज बढ़ोत्‍तरी हो कंज्‍यूमर को कोई कठिनाई ना हो इसलिए कीमतों को स्थिर ही रखने की कोशिश की जा रही है.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, तेल कंपनियों की ओर से जारी डेली प्राइस नोटिफिकेशन बताता है कि 24 अप्रैल से पेट्रोल-डीजल की कीमतें स्थिर रखी थीं. पिछले साल जून से कंपनियां लागत में बदलाव के अनुसार ऑटो फ्यूल की कीमतों की रोज समीक्षा करती हैं. इससे पहले, पिछले 15 साल से हर महीने की पहली और 16वीं तारीख को तेल की कीमतों की समीक्षा होती थी.

वहीँ आपको बता दें कि, तेल कंपनियों ने यह मानने से इनकार कर दिया था कि कर्नाटक में बीजेपी को फायदा पहुंचाने के लिए पेट्रोल-डीजल की कीमतों को फ्रीज रखा गया। इस सेक्‍टर से जुड़े एक एनॉलिस्‍ट का कहना है कि यदि तेल कंपनियां नियमित तौर पर अपनी समीक्षा जारी रखती तो बीते 19 दिन में पेट्रोल-डीजल की कीमतों में 1.5 रुपए प्रति लीटर की विरधी का सामना करना पड़ता लेकिन इस वजह को स्थिर नहीं रखा गया था.

अंतरराष्ट्रिय स्तर पर भी बढ़ रहे तेल के दाम

मीडिया सूत्रों के मुताबिक,सोमवार यानी आज से पहले पेट्रोल-डीजल की कीमतें आखिरी बार 24 अप्रैल को बढ़ी थी, उस वक्‍त दोनों फ्यूल की कीमतों में 13-13 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि की गई. जबकि इस अवधि में बेंचमार्क इंटरनेशनल पेट्रोल रेट 78.84 डॉलर प्रति बैरल से बढ़कर 82.98 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गए. वहीं, बेंचमार्क इंटरनेशनल डीजल रेट इस अवधि में 84.68 डॉलर प्रति बैरल से बढ़कर 88.63 डॉलर हो गया. इसके अलावा, इस अवधि में डॉलर के मुकाबले रुपया 66.62 के लेवल से निचे गिरकर 67 के स्‍तर पर पहुच गया है. आपको बता दें कि, 2017 में गुजरात चुनाव के बाद पेट्रोल के दामों में गिरावट दर्ज की गयी थी.

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles