चीन और पाकिस्तान के साथ दोनों मोर्चों पर भारत की तनातनी जारी है। इसी बीच हैरान कर देने वाली खबर सामने आई है। मीडिया रिपोर्ट में दावा किया जा रहा है कि भारत के पास जंग के लिए सिर्फ 15 दिन का गोला-बारूद मौजूद है।

समाचार एजेंसी ANI को सरकारी सूत्रों ने बताया, “दुश्मनों के साथ 15 दिवसीय घनघोर जंग लड़ने के लिए भंडार रखने के प्राधिकरण के तहत अब कई हथियार प्रणाली और गोला-बारूद का अधिग्रहण किया जा रहा है। स्टॉक अब 10 I के स्तर के बजाय 15-I स्तर पर होगा।”

इसके पहले सैन्य बल 10 दिनों तक के युद्ध के बराबर हथियार और गोला-बारूद का संग्रह रखते रहे हैं लेकिन इस बार न्यूनतम 15 दिनों के लेवल पर कर दिया गया है, ताकि चीन और पाकिस्तान की ओर से दो फ्रंट पर युद्ध की स्थिति में सैन्य बल तैयार रहें।

इस मंजूरी से सेना की वित्तीय शक्ति में भी बढ़ोतरी हुई है। अब सेना बजट के अंदर हर खरीद के लिए 500 करोड़ रुपये खर्च कर सकती है। युद्ध के साजो-सामान संग्रह करने में बढ़ोतरी की इजाजत कुछ दिन पहले मिली है।

बता दें कि लद्दाख सीमा पर जारी गतिरोध के बीच चीन और पाकिस्तान की वायुसेनाएं भारतीय सीमा से महज 200 किलोमीटर की दूरी पर सिंध में संयुक्त अभ्यास कर रही हैं। एक सप्ताह पहले ही चीन के रक्षा मंत्री जनरल वेई फेंगही ने पाकिस्तान के दौरे में सैन्य सहयोग बढ़ाने के लिए एक समझौता किया था।

इस अभ्यास के लिए चीन ने चौथी पीढ़ी के विमान शेनयांग जे-11 तथा चेंगदू जे-10 मल्टीरोल जेट भेजे हैं जबकि पाकिस्तान ने तीसरी पीढ़ी के मिश्रित विमानों- चीन निर्मित चेंगदू एफ-7 इंटरसेप्टर, फ्रांसीसी दासौ मिराज 5 तथा चीन और पाकिस्तान द्वारा संयुक्त रूप से निर्मित नए मल्टीरोल जेएफ-17 थंडर – को उतारा है।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano