भारत और चीन के बीच सीमा तनाव कम करने के लिए सैन्य और कूटनीतिक स्तर पर कोशिशें जारी है। तो दूसरी और अब भारत ने पूर्वी लद्दाख में चुमार-डेमचोक क्षेत्र में BMP-2 इन्फैंट्री कॉम्बैट व्हीकल्स के साथ T-90 & T-72 टैंकों की तैनाती कर दी है।

टैंकों की तैनाती को लेकर मेजर जनरल अरविंद कपूर (चीफ ऑफ स्टाफ,14 कॉर्प्स) ने कहा कि आने वाला मौसम कठिन और सख्त क्यों न हो हमारा हर एक जवान और इक्विपमेंट अच्छी तरह से तैयार है। उन्होंने आगे कहा कि ‘फायर एंड फ्यूरी कॉर्प्स’ सिर्फ भारतीय सेना का नहीं बल्कि दुनिया भर की आर्मी का अनोखा हिस्सा है। क्रू और इक्विपमेंट की तैयारी को सुनिश्चित करने के लिए आज हमारी सभी लॉजिस्टिक तैयारियां अपनी जगह पर हैं।

बता दें कि भारत और चीन के बीच अप्रैल से LAC पर तनाव बना हुआ है और अभी चार जगहों पर दोनों देशों के लगभग 50,000 सैनिक आमने-सामने हैं। इनमें देपसांग, गोगरा, पैंगोंग झील का फिंगर्स एरिया और चुशूल सब-सेक्टर शामिल हैं। पहली तीन जगहों पर तो चीनी सैनिक भारत की जमीन पर बैठे हुए हैं। इनके पास अतिरिक्त टैंक, तोपखाने और हवाई हमले के लिए फाइटर प्लेन और जरूरी साजो सामान उपलब्ध है।

इसके अलावा चीन ने अक्साई चिन में भी अपने तकरीबन 50,000 सैनिक जमा कर रखे हैं और इसके कारण उसके मंसूबों पर गंभीर सवाल उठ रहे हैं। भारत को आशंका है कि चीन रणनीतिक तौर पर महत्वपूर्ण काराकोरम पास पर कब्जा करने की कोशिश कर सकता है और इसी खतरे को देखते हुए उसने काराकोरम के पास दौलत बेग ओल्डी (DBO) में टी-90 मिसाइल टैंक तैनात किए हैं। LAC पर 35,000 अतिरिक्त सैनिकों की तैनाती भी की गई है।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano