kafeel khan

गोरखपुर बीआरडी मेडिकल कॉलेज मासूम बच्चों की मौत के मामले में डॉ कफील खान को ज़मानत मिल चुकी है. आपको बता दें कि, पिछले साल अगस्त में गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज में कथित तौर पर ऑक्सीजन की कमी से हुई मासूमों की मौत के मामले में फसे डॉक्टर कफील खान को इलाहबाद हाईकोर्ट ने बुधवार यानी आज जमानत दे दी है. इलाहबाद हाईकोर्ट ने उनपर लगे सभी आरोपों को खारिज कर दिया है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पिछले करीब आठ महीने से कफील खान गोरखपुर जेल में बंद हैं. इलाहाबाद हाईकोर्ट के जस्टिस यशवंत वर्मा की एकल पीठ ने डॉ कफील की जमानत याचिका को मंज़ूरी दे दी है. न्यूज़18 की खबरों के मुताबिक, जमानत मिलने के बाद डॉ कफील के भाई अदिल अहमद खान ने बताया कि कफील खान को इन्साफ मिला है लेकिन काफी देर बाद. उन्होंने यह भी बताया कि अभी डॉ कफील को जेल से बाहर निकलने में तीन से चार दिन लगेंगे.

 आपको बता दें कि, 19 अप्रैल को डॉक्टर कफील खान की तबीयत बिगड़ने के बाद जेल प्रशासन ने उन्हें जिला अस्पताल में चेकअप भी करवाया था. इस दौरान कफील खान ने सीने में दर्द हो रहा था. कुछ दिन पहले ही डॉ कफील की पत्नी डॉ शाबिस्ता खान ने जेल प्रशासन पर उनके ख़राब तबीयत पर धयान ना देने और लापरवाही बरतने का भी आरोप लगाया था. लेकिन इन सभी मामलों के बाद अब डॉ. कफील खान को बड़ी राहत मिली है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, डॉ कफील को जिला अस्पताल के ह्रदय रोग विभाग में एडमिट कराया गया था, जहां उनकी ईसीजी हुई और जरूरी जांच के बाद वापस जेल भेज दिया गया था. इस दौरान मीडिया से बातचीत करते हुए डॉ कफील ने कहा कि उन्हें प्रशासन द्वारा फंसाया जा रहा है. एक डॉक्टर को झूठे तरीके से आरोपी बनाया गया है.

Loading...