Tuesday, August 3, 2021

 

 

 

भारत मलेशिया को हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन बेचने के लिए हुआ सहमत

- Advertisement -
- Advertisement -

भारत ने COVID-19 रोगियों के उपचार में उपयोग के लिए मलेशिया में हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की गोलियाँ बेचने पर सहमति व्यक्त की है, एक मलेशियाई मंत्री ने बुधवार को कहा, नई दिल्ली आंशिक रूप से मलेरिया-रोधी दवा के निर्यात पर अपना प्रतिबंध हटा रही है।

भारत हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वाइन का दुनिया का सबसे बड़ा उत्पादक है, जिसकी बिक्री संयुक्त राज्य अमेरिका सहित दुनिया भर में बढ़ गई है, खासकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने इसे COVID-19 के खिलाफ एक संभावित हथियार के रूप में बताया है, जो कोरोनवायरस के कारण होने वाली बीमारी है। नई दिल्ली ने पिछले महीने ही अपने लिए सुरक्षित आपूर्ति के लिए हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के निर्यात पर रोक लगा दी थी।

मलेशिया के उप विदेश मंत्री कमरुद्दीन जाफर ने बुधवार को कहा, “14 अप्रैल को भारत ने मलेशिया को 89,100 टैबलेट आयात करने की अनुमति दी है।” “हम भारत से अधिक हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वाइन टैबलेट लेने की कोशिश करेंगे, जो स्टॉक की उपलब्धता के अधीन है।”

बता दे कि मलेशिया हल्के से गंभीर COVID-19 मामलों के साथ हल्के से गंभीर हाइड्रोविक्लोरोक्वीन का उपयोग कर रहा है। यह लगभग 5,000 मामलों के साथ दक्षिण पूर्व एशिया में COVID-19 के संक्रमण की दूसरी सबसे बड़ी संख्या है, जिनमें से 82 की मृ’त्यु हो गई है।

मलेशिया ने भारत से एक मिलियन से अधिक हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की गोलियाँ मांगी थीं। हालांकि भारत ने फिलहाल मलेशिया को 89,100 टैबलेट आयात करने की अनुमति दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles