भारत ने एंटी एयरक्राफ्ट मिसाइल से गलती से मार गिराया IAF Mi-17 चॉपर: रिपोर्ट

पिछले महीने की 27 तारीख को जम्मू-कश्मीर के बडगाम में भारतीय वायु सेना का एक एमआई – 17 वी5 हेलीकॉप्टर क्रैश हो गया था। उस दुर्घटना को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। अंग्रेजी अखबार इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इस दुर्घटना के ठीक पहले भारतीय सेना ने एक एंटी एयरक्राफ्ट मिसाइल भी दागी थी।

ऐसे में सिलसिलेवार तरीके से घटनाक्रम जोड़ते हुए यह पता लगाया जा रहा है कि कहीं यही मिसाइल तो उस हेलीकॉप्टर के क्रैश होने की वजह तो नहीं बनी थी। जांचकर्ता यह जानकारी भी जुटा रहे हैं कि जब वह हेलीकॉप्टर क्रैश हुआ था तो उसका मित्र या दुश्मन की पहचान करने वाला (आईएफएफ) सिस्टम सक्रिय था या नहीं। इसमें दोषी पाए जाने पर संबंधित कर्मियों के खिलाफ कोर्ट मार्शल की कार्रवाई की जा सकती है।

बता दें कि बालाकोट एयर स्ट्राइक का जवाब देने के लिए 27 फरवरी को पाकिस्तान के 25 से ज्यादा लड़ाकू विमानों ने भारतीय वायुक्षेत्र में प्रवेश करने की कोशिश की थी। जिसका जवाब देने के लिए भारत ने सीमा पर वायु सुरक्षा प्रणाली को सक्रिय कर दिया था।

ऐसी संभावना जताई जा रही है कि एमआई 17 वी5 हेलीकॉप्टर और यूएवी की उड़ान में समानता के कारण गलतफहमी हो गई हो। जम्मू-कश्मीर के नौशेरा सेक्टर में जब भारत-पाकिस्तान के लड़ाकू विमान जब आमने-सामने थे तो उसी दौरान इजरायल में निर्मित एंटी एयरक्राफ्ट मिसाइल दागी गई थी। उसी दौरान वह हेलीकॉप्टर भी क्रैश हुआ था।

इस हादसे के बाद भारतीय वायु सेना ने अपने आधिकारिक बयान में अपने हेलीकॉप्टर के क्रैश होने की बात स्वीकार की थी। लेकिन उस हेलीकॉप्टर के पाकिस्तान के विमानों के साथ किसी हवाई लड़ाई में शामिल होने को लेकर कुछ नहीं कहा था। उधर, पाकिस्तान की तरफ से दिए गए बयान में भी कहा गया था कि उसके विमानों का भारत के किसी हेलीकॉप्टर के साथ कोई मुकाबला नहीं हुआ था।

तकनीकी रूप से अति उन्नत कहा जाने वाले वह एमआई – 17 हेलीकॉप्टर जब दुर्घटना का शिकार हुआ था तो उससे तेज धमाका भी हुआ था। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक धमाके बाद वह धुएं के गुबार के साथ जमीन पर आ गिरा था। उस हादसे में वायुसेना के छह कर्मचारी शहीद हुए थे। इसके अलावा हेलीकॉप्टर के मलबे की चपेट में आने से एक अन्य व्यक्ति की भी मौत हुई थी।

विज्ञापन