फर्जी पासपोर्ट मामले में अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन सहित पासपोर्ट ऑफिस के तीन अधिकारियों को आज दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने सात साल की सजा सुनाई है. साथ ही सभी पर 15000 रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है.

70 से अधिक मुकदमों में आरोपी छोटा राजन को पहली बार किसी में सजा सुनाई गई हैं. छोटा राजन के खिलाफ आईपीसी की धारा 420, 468, 471, 120बी के तहत आरोप थे. अदालत ने 28 मार्च को मामले में अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था.

इस मामलें में सीबीआई ने अपनी पहली चार्जशीट फरवरी 2016 में कोर्ट में दाख़िल की थी. इसमें छोटा राजन के साथ बंगलुरु के तीन रिटायर्ड अफसरों को नामित किया गया था. हालांकि ये तीनों जमानत पर बाहर हैं. छोटा राजन को 25 अक्टूबर, 2015 को इंडोनेशिया के बाली में गिरफ्तार किया गया था. तब से ही वह तिहाड़ जेल में हैं.

गौरतलब रहें कि वह सितंबर 2003 मे मोहन कुमार के नाम पर बने इसी फर्जी पासपोर्ट और टूरिस्ट वीजा पर भारत से ऑस्ट्रेलिया भाग गया था. इसके बाद वह करीब 12 साल तक वहीं रहा था. दाउद इब्राहीम के डर से उसने ऑस्ट्रलिया छोड़ा था. जिसके बाद उसे इंडोनेशिया में गिरफ्तार कर लिया गया था.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें