अजेमर ब्लास्ट मामले में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) नेता इंद्रेश कुमार और साध्वी प्रज्ञा को क्लिनचिट दी है. इस मामलें में असीमानंद को पहले ही बरी किया जा चूका हैं.

एनआईए द्वारा विशेष कोर्ट में दाखिल की गई सप्लीमेंटरी फाइनल रिपोर्ट में एनआईए ने कहा कि जांच के दौरान इनके खिलाफ ठोस सबूत नहीं मिले हैं जिसके आधार पर इन्हें दोषी ठहराया जा सके. ब इस रिपोर्ट पर जयपुर की की एनआईए अदालत 17 अप्रैल को अपना फैसला सुनाएगी.

इससे पहले इस मामले में एनआईए की विशेष अदालत ने दोषी पाए गए भवेश पटेल और आरएसएस के नेता देवेंद्र गुप्ता को उम्रकैद की सजा सुनाई थी. कोर्ट ने इसके साथ ही पटेल पर 10,000 रुपये तथा गुप्ता पर 5000 रुपये का जुर्माना भी लगाया था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसी के साथ न्यायालय ने केरल के मुख्य सचिव, कलक्टर और इंदौर के कलक्टर के प्रति सख्त नाराजगी जताई है. कोर्ट ने उनसे दरगाह ब्लास्ट प्रकरण में फरार चल रहे चार आरोपियों की सम्पति के बारे में जानकारी मांगी थी, लेकिन उन्होंने अभी तक इसकी जानकारी नहीं दी. कोर्ट ने कलक्टर्स और मुख्य सचिव से पूछा कि क्यों ना आपके खिलाफ अवमानना की कार्रवाई की जाए.

Loading...