Tuesday, June 28, 2022

इमारत-ए-शरिया का ऐलान – निजामुद्दीन मरकज में गए जमाती कराये कोरोना की जांच

- Advertisement -

बिहार में इमारत-ए-शरिया ने तबलीगी जमात के लोगों के लिए कोरोना की जांच कराने का फरमान जारी किया है। शरिया ने तब्लीगी जमात को फरमान सुनाते हुए कहा कि जो लोग निजामुद्दीन के मरकज में शामिल हुए हैं, वे हर हाल में कोरोना की जांच कराएं।

दिल्ली के निजामुद्दीन में तब्लीगी जमात के मरकज में शामिल हुए बिहार के लोगो को इमारत-ए शरिया ने फरमान सुनाते हुए कहा है कि जो लोग मरकज में मिल हुए हैं उन्हें हर हाल में कोरोना की जांच करानी होगी। कोरोना एक खतरनाक महामारी है जिसके फैलने से किसी की जान भी जा सकती है। ऐसे में यह जरूरी है कि जो लोग मरकज में शामिल हुए हैं वो ना सिर्फ अपनी जांच कराएं बल्कि एहतिहातन लोगों से दूरी भी बनाकर रखें।

बिहार में इमारत-ए शरिया के जनरल सेक्रेट्री मौलाना शिब्ली कासमी ने न्यूज 18 के जरिये लोगों से खासकर अपने कौम से यह अपील करते हुए कहा कि सरकार ने कोरोना से बचाव के लिए जो लॉकडाउन का फैसला लिया है, उसका सभी लोग अनुपालन करें। सड़कों और गली-मोहल्लों में बेवजह की भीड़ न लगाएं। घर में ही नमाज पढ़ें और जिन्हें भी कोरोना से संबंधित कुछ भी लक्षण दिखाई पड़े वो तुरत नजदीकी स्वास्थ्य केंद्रों में अपनी जांच कराएं और सबसे महत्वपूर्ण सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें।

इसके अलावा ऑल इंडिया MILLI काउंसिल के उपाध्यक्ष मौलाना अनीसुर्रहमान कासिमी ने लोगों से अपील करते हुए कहा है कि देश-प्रदेश की सरकार के आदेश का सभी पालन करें खासकर जो लोग तब्लीगी जमात से जुड़े हैं, उन्हें खास तौर पर लॉकडाउन का अनुपालन करने की जरूरत है।

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक देश में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों में 30 फीसदी मरीज जमाती हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि देश में 17 राज्यों में 1023 कोरोना वायरस से पॉजिटिव मरीज तबलीगी जमात से संबंध रखते हैं। देश में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या 3000 के पार पहुंच चुकी है।

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles