social

देश मे जिस तरह झूठी अफवाहों के आधार पर एक नफरत भरा माहौल बनाया जा रहा है। उससे निपटने के लिए अब पश्चिम बंगाल मे इमाम और मौलवी सोशल मीडिया का इस्तेमाल करेंगे। ताकि लोगों के बीच सद्भाव और भाईचारा रहे।

नाखुदा मस्जिद के शफीक काजमी ने पिछले साल फेसबुक पर अपना अकाउंट बनाया ताकि शांति और सद्भाव को बढ़ावा दिया जा सके। उन्‍होंने कहा, ‘वर्चुअल वर्ल्‍ड में अगर कुछ शांति और सद्भाव को बढ़ावा देने वाला अच्‍छा दर्शन या लेख है तो मैं उसे दूसरों के साथ शेयर करता हूं। यदि मुझे कोई गलत सूचना दिखती है तो मैं उसे सही करता हूं और यदि कुछ आपत्तिजनक दिखता है तो मैं उसकी आलोचना करता हूं।’

शिया मौलवी इमाम-ए-जुमा काशीपुर सैयद मेहर अब्‍बास रिजवी का मानना है कि हरेक व्‍यक्ति तक शांति और भाईचारे को पहुंचाने के लिए सोशल मीडिया एक अच्‍छा प्‍लैटफाॅर्म है। उन्‍होंने कहा, ‘मैं हरेक व्‍यक्ति से अनुरोध करुंगा कि किसी भी सूचना पर विश्‍वास करने से पहले उसकी पुष्टि करें जैसे कि हम किसी अपरिचित द्वारा कुछ खाने के लिए दिए जाने पर करते हैं।’

Courtesy: Lokbharat

रेड रोड पर ईद की नमाज कराने वाले प्रभा‍वशाली मौलवी कारी फजलुर रहमान कहते हैं कि ज्‍यादा से ज्‍यादा लोग जो इस माध्‍यम को समझते हैं, उन्‍हें इससे जुड़ना चाहिए। इससे गलत सूचना को रोकने और घृणा से भरे अभियानों को रोकने में मदद मिलेगी।

उन्‍होंने कहा, ‘युवा धार्मिक विद्वान जो इसे समझते हैं उन्‍हें सोशल मीडिया पर अपनी भागीदारी बढ़ानी चाहिए ताकि गलत सूचनाओं के प्रवाह को रोका जा सके।’

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?