रोहिंग्या मुस्लिम शरणार्थियों के मुद्दें पर स्वामी अग्निवेश ने केंद्र की मोदी सरकार की आलोचना की है, उन्होंने कहा कि भारत की नैतिक और प्राचीन परंपरा रही है कि हमने हमेशा बाहरी लोगों को गले लगाया है.

उन्होंने रोहिंग्या शरणार्थियों को भारत में जगह देने की मांग करते हुए कहा कि म्यांमार में हिंसा थमने और इस समस्या का समाधान होने तक उन्हें देश में जगह दी जानी चाहिए. साथ ही उन्हें वापस भेजने के लिए म्यांमार पर केंद्र सरकार को दबाव बनाना चाहिए.

उन्होंने कहा कि वे रोहिंग्या शरणार्थियों को हमेशा के लिए स्थायी रूप से बसाने की मांग नहीं कर रहे है. इस दौरान उन्होंने मोदी सरकार के दोहरे रवैये पर भी सवाल उठाया.

स्वामी अग्निवेश ने कहा कि देश में अगर देश में हिंदू आएं तो उन्हें शरणार्थी कहा जाता है लेकिन वहीँ अगर मुस्लिम आएं तो उन्हें आतंकवादी पुकारा जाता है जबकि हर मुसलमान आतंकवादी नहीं हो होता.

इस दौरान उन्होंने अखाड़ा परिषद की ओर से फर्जी संतों की सूची जारी करने के कदम का स्वागत किया और कहा, राम रहीम और आशाराम समेत सभी पाखंडियों को जेल भेजना होगा.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?