प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि जैसा सपना भारत के लिए देखते हैं वैसा ही अपने पड़ोसी मुल्कों के लिए भी देखते हैं. उन्होंने कहा कि अगर पाकिस्तान अपनी सरजमीं से आतंकवाद पूरी तरह खत्म कर ले तो दोनों देशों के संबंध बेहतर हो सकते हैं.

उन्होंने आगे कहा कि ‘पाकिस्तान से संबंध बेहतर करना मेरी सरकार का एजेंडा रहा है और मेरी लाहौर यात्रा इस का स्पष्ट संकेत थी.  प्रधानमंत्री ने कहा, अगर पाकिस्तान खुद की लगाई हुई आतंकवाद की बाधा को हटा दे तो दोनों देशों के रिश्ते ज्यादा बुलंदी पर होंगे. ‘इस दिशा में हम पहला कदम उठाने को तैयार हैं लेकिन शांति की राह एकतरफा नहीं है. हम चाहते हैं कि पाकिस्तान भी अपने हिस्से का काम करे और जिम्मेदारी निभाए.’

उन्होंने कहा कि एक-दूसरे से लड़ने के बजाय भारत और पाकिस्तान को मिलकर गरीबी के खिलाफ लड़ना चाहिए. लेकिन भारत आतंकवाद के मुद्दे पर कोई समझौता नहीं करेंगा. यह तभी रुक सकता है, जब आतंकवाद को दिया जाने वाला हर प्रकार का समर्थन बंद किया जाए, फिर चाहे वह सरकार प्रायोजित आतंकवाद हो या दूसरी तरह का आतंकवाद.