Sunday, January 23, 2022

हुर्रियत नेताओं ने जेल से निकलने के लिए किए रिहाई के बॉन्ड पर हस्ताक्षर

- Advertisement -

जम्मू कश्मीर को आजाद कराने का खवाब देखने वाले हुर्रियत के नेता अब खुद की आजादी के लिए जद्दोजहद कर रहे है। खबर है कि मीरवाइज उमर फारूक और चार अन्य कश्मीरी नेताओं को प्रशासन की जमानत का बॉन्ड भरा कर रिहा कर दिया है।

मीरवाईज मौलवी उमर फारुक के अलावा नेशनल कांफ्रेंस के दो पूर्व विधायक, पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी और पीपुल्स कांफ्रेंस से जुड़े दो नेताओं ने राज्य प्रशासन को बांड लिखकर दिया है कि वह अपनी रिहाई के बाद कोई ऐसा काम नहीं करेंगे जिससे माहौल बिगड़े।

इन नेताओं ने ये भी कहा है कि यदि इन्हें रिहा किया जाता है तो वे लोग किसी भी राजनीतिक गतिविधि में शामिल नहीं होंगे। जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान खत्म किए जाने के बाद के राज्य के प्रमुख नेताओं व विभिन्न संगठनों के लोगों को ऐहतियातन हिरासत में ले लिया गया था।

एक अधिकारी ने बताया कि यदि किसी व्यक्ति को सीआरपीसी की अनुच्छेद 107 के तहत हिरासत में लिया जाता है तो उसे एक बॉन्ड साइन करना पड़ता है। इसके बाद वह उस बॉन्ड का उल्लंघन करता है तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाती है। इसमें व्यक्ति की गिरफ्तारी भी शामिल है। इसके अंतर्गत निषेधात्मक गतिविधियों में राजनीतिक भाषण देना भी शामिल है।

सेंटूर सबाईडरी जेल में अब भी तीन दर्जन ही राजनीतिक नेता व कार्यकत्र्ता एहतियातन हिरासत में हैं। इनमें शाह फैसल, सज्जाद गनी लोन,वहीद उर रहमान पारा, निजामदीन बट, खुर्शीद आलम,यासिर रेशी,मोहम्मद खलील बंड ,अली मोहम्मद सागर,मुबारक गुल सरीखे नेता हैं। अलबत्ता, इनमें से किसी नेता ने अभी तक अपनी रिहाई के लिए बांड नहीं भरा है।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles