Saturday, December 4, 2021

गोरक्षकों को बीजेपी का प्रोत्साहन, 3 सालों में ले ली 44 लोगों की जा’न: ह्यूमन राइट्स वॉच

- Advertisement -

ह्यूमन राइट्स वॉच ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया कि भारत में तीन सालों में कथित गोरक्षक संगठनों ने कम से कम 44 लोगों की हत्या कर दी। रिपोर्ट में भाजपा सदस्यों द्वारा गोमांस की खपत व मवेशी व्यापार से जुड़े लोगों के खिलाफ हिंसक निगरानी अभियान को प्रोत्साहन देने की बात भी की गई है।

104 पेज की इस रिपोर्ट में बताया गया है कि मारे गए लोगों में से 36 मुस्लिम समुदाय से थे। न्यूयॉर्क के समूह की इस रिपोर्ट के मुताबिक, मई 2015 से लेकर दिसंबर 2018 के बीच 100 से ज्यादा हमलों में 280 लोग घायल हुए हैं। इसमें यह भी कहा गया है कि पुलिस ने अक्सर हमलावरों के मुकदमे को रोक दिया, जबकि भाजपा के कई राजनेताओं ने सार्वजनिक तौर पर हमलों को उचित ठहराया।

ह्यूमन राइट्स वॉच ने कहा, “गौ रक्षा की अपील हिंदू वोटों को खींचने के लिए शुरू हुई, लेकिन यह भीड़ के लिए हिंसक हमले करने व अल्पसंख्यक समूह के सदस्यों की हत्या के लिए स्वतंत्र छूट में बदल गई।” इसमें कहा गया, “भारतीय प्रशासन को इन हमलों को सही ठहराने, पीड़ितों को दोष देना या अपराधियों को बचाना बंद करना चाहिए।”

ह्यूमन राइट्स वॉच ने कहा है कि पीएम नरेंद्र मोदी की पार्टी बीजेपी हिंदुओं द्वारा पूजे जाने वाली गाय की रक्षा के लिए नीतियों का समर्थन करती है। समूह ने आरोप लगाया कि बीजेपी के सांप्रदायिक बयानबाजियों की वजह से बीफ खाने के विरोध में हिंसक अभियान शुरू हुए। रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है कि गोरक्षकों के नाम पर हिंसा करने के आरोपियों के खिलाफ पुलिस अक्सर कार्रवाई करने में कोताही बरतती है, वहीं बहुत सारे बीजेपी नेता सार्वजनिक तौर पर इन हमलों को जायज ठहराते हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, इस तरह की हिंसा से दलित और आदिवासी भी पीड़ित हैं। एक मानवाधिकार कार्यकर्ता ने विदेशी मीडिया संगठन को बताया कि कई ह’त्याओं के वीडियो तक बनाए गए, जो बाद में वायरल हो गए। ह्यूमन राइट्स वॉच की रिपोर्ट में गोरक्षकों के ग्रामीण अर्थव्यवस्था के असर के बारे में भी बताया गया है।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles