simi-encounter-111

भोपाल | भोपाल सेंट्रल जेल से भागे 8 सिमी कार्यकर्ताओ के एनकाउंटर के बाद मध्य प्रदेश सरकार सवालो के घेरे में है. विपक्ष एनकाउंटर पर सवाल उठा रहा है. वही एनकाउंटर की कई विडियो सामने आने के बाद पुलिस की कार्यवाही पर भी सवाल उठ रहे है. अब मामले का संज्ञान लेते हुए मानवाधिकार आयोग ने भी मध्य प्रदेश सरकार से पूरी रिपोर्ट मांगी है.

मानवाधिकार आयोग ने मध्यप्रदेश सरकार से पूरी घटना की रिपोर्ट 15 दिन में जमा करने का आदेश दिया है. आयोग के पीआरओ एलआर सिसोदिया ने मीडिया को बताया की सामने आये विडियो के आधार पर इस मामले की रिपोर्ट मांगी गयी है. वैसे आयोग भी इन विडियो की जाँच करेगा. मावाधिकार आयोग के मामले का संज्ञान लेने के बाद मध्यप्रदेश सरकार घिरती दिख रही है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

वही इस मामले में विपक्ष पहले से सरकार पर हमलावर है. कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह ने सिमी कार्यकर्ताओ की फरारी पर सवाल उठाते हुए कहा की सिमी कार्यकर्ताओ जेल से भागे है या उनको किसी योजना के तहत भगाया गया है. उधर कमलनाथ ने भी एनकाउंटर की जांच की मांग करते हुए कहा की इतनी सुरक्षित जेल से आतंकी भाग जाते है, उनको जल्द ही पकड़ लिया जाता है, एनकाउंटर किया जाता है. अब उनसे पूछताछ नही हो सकती. मैं मामले की न्यायिक जांच की मांग करता हूँ.

उधर ओवैसी ने भी मामले को संदेहस्पद बताते हुए कहा की विडियो में साफ़ दिख रहा है की कार्यकर्ताओ के पास कोई हथियार नही थे. राज्य सरकार के गृह मंत्री ने भी माना की उनके पास चमचो के अलावा कोई हथियार नही था. कोई चमचो से कैसे गोलियों का सामना कर सकता है. कहाँ से उनके पास जीन्स , घडी और बेल्ट आ गयी. मैं मामले की जांच सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में करने की मांग करता हूँ.

Loading...