In my lifetime could become temple: Bhagwat

RSS चीफ मोहन भागवत ने सोमवार को कहा कि हिंदू इस देश में कभी अल्पसंख्यक नहीं होंगे और उन लोगों को वापस लाने के प्रयास किए जाने चाहिए जो कभी हिंदू थे। भागवत ने यहां चैंबर ऑफ कॉमर्स के एक संवाद सत्र में कहा, ‘हिंदुओं को खुद से इस समस्या से निपटना होगा। हिंदू एक समय में अल्पसंख्यक हो जाएंगे यह निराशावाद खत्म होना चाहिए। इस अवधि में हम कुछ ऐसा कर सकते हैं कि ऐसी बात नहीं हो।’

उन्होंने कहा, ‘120 करोड़ से अधिक की आबादी में बहुसंख्यक हिंदू कभी भी अल्पसंख्यक नहीं होंगे। हिंदू हमेशा बहुसंख्यक रहेंगे। और आप आज जो कुछ भी (आबादी) देखते हैं, वह आने वाले दिनों में बढ़ने जा रहा है।’ उन्होंने कहा, ‘जो हिंदू हैं वो बने रहेंगे। और जो कभी हिंदू थे, अगर कट्टरपंथियों के ढक्कन को हटा दिया जाए तो उनमें से कम से कम 50 फीसदी वापस आ जाएंगे।’

 

उन्होंने कहा, ‘इसलिए जो लोग चले गए हैं, हमें उन्हें लालच या बलपूर्वक वापस नहीं लाना चाहिए बल्कि प्रेम के जरिए उन्हें वापस लाना चाहिए।’ उधर, RSS चीफ मोहन भागवत के आरक्षण के लिए योग्यता पर फैसला करने के लिए गैर राजनैतिक समिति का गठन करने की वकालत करने के कुछ ही घंटे बाद कांग्रेस ने कहा कि उन्हें विवादास्पद बातें बोलने की आदत है और उनसे जुड़े लोगों को उन्हें सुधारना चाहिए या जनता ऐसा कर देगी।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खडगे ने लोकसभा अध्यक्ष द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक के बाद कहा, ‘वह हमेशा विवादास्पद बातें बोलते हैं। उन्होंने पहले कहा था कि आरक्षण की समीक्षा की जानी चाहिए और यह समाप्त होना चाहिए। यह उनकी आदत रही है। उनके लोगों को उनका खयाल रखना चाहिए या जनता उन्हें सुधार देगी।’ (नवभारत टाइम्स)

Loading...