लखनऊ | पिछले कुछ दिनों से पुरे देश में गौरक्षा के नाम पर हो रही गुंदगर्दी को लेकर बहस छिड़ी हुई है. राजस्थान के अलवर में गौतस्करी का आरोप लगाकर 5 लोगो की बेरहमी से पिटाई की गयी जिसमे एक 50 वर्षीय शख्स पहलु खान की मौत हो गयी. इसके बाद गौरक्षको की गुंडागर्दी पर संसद से लेकर सुप्रीम कोर्ट में संग्राम शुरू हो गया. सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और 6 राज्य सरकारों को नोटिस देते हुए पुछा है की आखिर क्यों न इन गौरक्षक संगठन पर प्रतिबंध लगा दिया जाये.

उधर उत्तर प्रदेश से एक ऐसी घटना सामने आई है जिसके बाद राज्य सरकार और कथित गौरक्षको के ऊपर एक बार फिर सवाल उठाना लाजिमी है. दरअसल लखनऊ में हिन्दू युवा वाहिनी के एक नेता की गाडी ने बछड़े को कुचल उसको मौत के घाट उतार दिया. अब सवाल यह है की कुछ बेकसूर लोगो को बिना सबूत के गौरक्षको की गुंडागर्दी का सामना करना पड़ता है. क्या इस घटना के बाद कोई गौरक्षक सामने आएगा?

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इसके अलावा सरकार भी सवाल उठाने लाजमी है क्योकि हिन्दू युवा वाहिनी का गठन खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने किया है. ऐसे में क्या कोई अधिकारी इस नेता पर कार्यवाही करने की हिम्मत करेगा, यह देखने वाली बात होगी. घटना की बात करे तो लखनऊ के निवादा इलाके में करीब साढ़े साथ बजे हिन्दू युवा वाहिनी के लोग , एक गाडी में सवार होकर शराब के ठेके की और जा रहे थे.

तभी गाडी की चपेट में एक बछड़ा आ गया. प्रत्यक्षदर्शियो के अनुसार , बछड़े के चपेट में आने के बावजूद ड्राईवर ने गाडी की रफ़्तार कम नही की जिससे बछड़ा गाडी के साथ 20 मीटर तक घिसटता चला गया. बछड़े की मौत से घबराये सभी लोग कार छोड़ फरार हो गए. लोगो का कहना है की गाडी का ड्राईवर नशे में था और उनकी गाडी से भी कई शराब की बोतले बरामद हुई है. पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है. जांच करने के बाद पता चला की गाडी , लखनऊ हिन्दू युवा वाहिनी के नेता अखंड प्रताप के नाम पर है.

Loading...