Saturday, October 23, 2021

 

 

 

मिसाल: बीमार मुस्लिम ड्राइवर की तरफ से हिन्‍दू अधिकारी ने रखे रमजान के पूरे रोजे

- Advertisement -
- Advertisement -

महाराष्‍ट्र के बुलढाणा में एक हिन्‍दू ऑफिसर ने भाईचारे की बड़ी मिसाल पेश करते हुए रोज़ा रखा है। सबसे खास बात ये है कि उन्होने ये रोजा खुद के लिए नहीं बल्कि अपने मुस्लिम ड्राईवर के लिए रखा। जो बीमार है।

बुलढाणा में डिविजनल फॉरेस्‍ट ऑफिसर संजय एन माली ने अपने ड्राईवर के लिए सिर्फ एक रोजा नहीं बल्कि पूरे महीने के रोजे रखे है। एन माली हर रोज पूरी श्रद्धा के साथ रोज़ा रखते हैं और नियमों के मुताबिक सहरी और इफ्तार करते हैं।

ऑफिसर एन माली की ओर से बताया गया कि 6 मई को उन्‍होंने अपने ड्राइवर से रमजान के महीने में रोज़ा रखने को लेकर पूछा। तब ड्राइवर ने कहा कि उसकी तबियत ठीक नहीं है, ड्यूटी भी करनी है। ऐसे में वह पूरे दिन भूखा रहकर रोज़ा नहीं रख सकता।

ramzan

ड्राइवर की इस बात पर एन माली ने कहा कि उसके नाम से अब वह खुद रोज़ा रखेंगे। तभी से एन माली सुबह 4 बजे उठकर रोज़े के लिए सहरी करते हैं और शाम को समय के हिसाब से रोजा खोलते हैं।

ऑफिसर एन माली का कहना है कि ऐसा करने से सांप्रदायिक सद्भाव बढ़ता है। उनका भरोसा है कि हर धर्म कुछ अच्‍छी चीजें सिखाता है. आदमी को सबसे पहले मानवता देखनी चाहिए, उसके बाद धर्म। वे कहते हैं रोजा रखने के बाद से वे खुद को काफी फ्रेश महसूस कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles