collag 647 100917115439

collag 647 100917115439

नई दिल्ली | देश की दो जानी मानी यूनिवर्सिटी एएमयू और बीएचयू के बहुत जल्द नाम बदले जा सकते है. देश की सेंट्रल यूनिवर्सिटीज को सेक्युलर प्रदर्शित करने के लिए यह कदम उठाया जा सकता है. इसलिए माना जा रहा है की मोदी सरकार बहुत जल्द अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में से ‘मुस्लिम’ और बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी में से ‘हिन्दू’ शब्द हटा सकती है. यह सिफारिश यूजीसी की और से गठित एक समिति की और से की गयी है.

दरअसल कुछ दिन पहले मानव संसाधन मंत्रालय ने यूजीसी को देश की 10 केंद्रीय विश्वविधालयो का ऑडिट करने के लिए कुछ समितियों का गठन करने का आदेश दिया था. मंत्रालय को इन विश्वविद्यालयो के अन्दर काफी अनियमितताओ की शिकायत मिली थी. मंत्रालय के निर्देश पर यूजीसी ने 25 अप्रैल को पांच समितियों का गठन किया. फ़िलहाल पांचो समितियों ने अपनी रिपोर्ट यूजीसी को सौप दी है.

इनमे से एक समिति ने यह सिफारिश की है की देश के केन्द्रीय यूनिवर्सिटीज का सेक्युलर चरित्र प्रदर्शित करने के लिए जरुरी है की एएमयू और बीएचयू के नाम बदले जाए. अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी का ऑडिट कर रही एक समिति ने सिफारिश की है की एएमयू का नाम बदलकर या तो अलीगढ यूनिवर्सिटी कर दिया जाए या फिर इसका नाम यूनिवर्सिटी के संस्‍थापक सर सैयद अहमद खान के नाम पर रख दिया जाए.

कुछ ऐसी ही सिफारिश बीएचयू के लिए भी की है. इंडियन एक्सप्रेस की खबर के अनुसार जिन यूनिवर्सिटीज का ऑडिट कराया गया है उनमे पांडिचेरी यूनिवर्सिटी, इलाहाबाद यूनिवर्सिटी, उत्‍तराखंड की हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल यूनिवर्सिटी, झारखंड की सेंट्रल यूनिवर्सिटी, राजस्‍थान की सेंट्रल यूनिवर्सिटी, जम्‍मू की सेंट्रल यूनिवर्सिटी, वर्धा का महात्‍मा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय हिन्‍दी विश्‍वविद्यालय, त्रिपुरा की सेंट्रल यूनिवर्सिटी, मध्‍य प्रदेश की हरि सिंह गौर यूनिवर्सिटी शामिल है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?