amit shah in tension 1 696x447

भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह से जुड़े सहकारी बैंक मे नोटबंदी से जुड़ा कथित 745 करोड़ रुपये का घोटाला सामने आया है। नोटबंदी के फैसले के बाद करीब 750 करोड़ रुपये जमा किए गये थे।

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता और राहुल गांधी के करीबी नेता रणदीप सुरजेवाला ने भाजपा पर बड़ा हमला किया है. ये हमला नोटबंदी को लेकर एक RTI के खुलासे के बाद किया है।

उन्होने बताया, अहमदाबाद को-ऑपरेटिव बैंक में सबसे ज्यादा पुराने नोट जमा किए गए. इस बैंक के निदेशक भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह हैं। साल 2000 में वे इस बैंक के अध्यक्ष भी थे।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

demonetise

इसके अलावा एडीसीबी के बाद सबसे ज्यादा प्रतिबंधित नोट राजकोट जिला सहकारी बैंक में जमा हुए, जिसके चेयरमैन जयेशभाई विट्ठलभाई रदाड़िया हैं, जो गुजरात की विजय रूपाणी सरकार में कैबिनेट मिनिस्टर हैं।

सुरजेवाला ने कहा कि वो लोग कौन थे, जिन्हें मालूम था कि नोटंबदी होने वाली है। जिस नोटबंदी के बाद पीएम मोदी ने दावा किया था कि इससे काला धन खत्म हो जाएगा। 19 महीने बाद ये पर्दाफाश हो गया है कि ये सबसे बड़ा घोटाला था। इसमें काले धन को सफेद किया गया।

मालूम हो कि 8 नवंबर 2016 को प्रधानमंत्री मोदी ने 500 और 1000 के नोटों को बंद करने का फैसला लिया था और जनता को बैंकों में अपने पास जमा पुराने नोट बदलवाने के लिए 30 दिसंबर 2016 तक यानी 50 दिनों की मियाद दी गई थी।

Loading...