गत जून में ईद की शोपिंग कर अपने घर लौट रहे हरियाणा स्थित बल्लभगढ़ के रहने वाले 16 वर्षीय जुनैद की पीट-पीट कर हत्या के मामले में पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने  सीबीआई जांच की मांग की याचिका को ख़ारिज कर दिया है.

जुनैद के परिवार ने पिछले महीने अदालत में याचिका दायर कर मामले की आगे की जांच सीबीआई से करवाने की मांग की थी. जलालुदीन ने अपनी याचिका में कहा था कि उनके बेटे जुनैद और उसके 2 चचेरे भाई पर एक वर्ग के प्रति नफरत के चलते हमला हुआ, जिसमें उनके बेटे की पीट-पीटकर और चाक़ू से गोद कर हत्या कर दी गई. याचिका में उन्होंने आरोप लगाया है कि पुलिस ने मामले में चश्मदीद और गवाहों के साथ छेड़छाड़ कर आरोपी पक्ष को फायदा पहुंचाने का प्रयास कर रही है.

जस्टिस रंजन गुप्ता की बेंच के सामने सरकार की तरफ से एडिशनल एडवोकेट जनरल दीपक सबरवाल ने याचिका पर कहा कि जब तक राज्य सरकार की पुलिस और एजेंसी की जांच में कमी नहीं मिलती, तब तक मामले की जांच के लिए सीबीआई जांच की मांग करना ठीक नहीं है.

जलालुद्दीन के वकील अर्शदीप सिंह चीमा ने याचिका के खारिज होने के बारें में बताया, ‘‘न्यायाधीश ने इस आधार पर याचिका खारिज कर दी कि मामले में पुलिस जांच सही थी.’’ न्यायाधीश ने आदेश में लिखा, ‘‘सुनवाई के दौरान शिकायतकर्ता यह दिखाने में सक्षम नहीं रहे हैं कि जांच में कोई गंभीर कमी है, जिससे यह निष्कर्ष निकले कि जांच लचर है या दागदार है.’’

न्यायाधीश ने अपने आदेश में कहा, ‘‘इसके अलावा, इस बात को दर्शाने के लिए कुछ भी नहीं है कि घटना का कोई राष्ट्रीय या अंतरराष्ट्रीय प्रभाव है. इसलिए, यह सीबीआई को जांच सौंपने के लिए असाधारण शक्ति का इस्तेमाल करने का उपयुक्त मामला नहीं है.”

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?