केरल के बहुचर्चित ‘लव जिहाद’ मामले में हादिया उर्फ़ अखिला अशोकन की आज यानि सोमवार को सुप्रीम कोर्ट  के समक्ष पेशी होगी.

ध्यान रहे केरल हाई कोर्ट ने मई में धर्म परिवर्तन कर मुसलमान बनी हादिया की मुस्लिम युवक से शादी को रद्द कर दिया था. जिसके बाद उसके पति शफीन जहां ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था. सुप्रीम कोर्ट ने पिछली सुनवाई में टिप्पणी की थी कि लड़की बालिग है और उसकी इच्छा महत्वपूर्ण है. कोर्ट ने कहा था कि बालिग होने की वजह से लड़की किसी के साथ भी जाने के लिए स्वतंत्र है.

ऐसे में आज चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की पीठ के समक्ष खुद हादिया को पेश होना है. कोर्ट आज हादिया से बातचीत कर उनकी मानसिक स्थिति का शुरुआती आकलन करेगा. साथ ही आज पुरे मामले की सुनवाई खुली अदालत में होगी.

रविवार को सुप्रीम कोर्ट के सामने पेशी के लिए रवाना होने से पहले हादिया ने कहा कि किसी ने भी उसे इस्लाम में धर्मांतरण के लिए मजबूर नहीं किया था. वह अपने 25 वर्षीय पति शफीन जहां के पास जाना चाहती है. हादिया ने मीडिया से कहा, ‘मैं एक मुस्लिम हूं, मैं अपने पति के साथ जाना चाहती हूं, किसी ने मुझे धर्म बदलने के लिए दबाव नहीं डाला है.’

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने नैशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) को हादिया के साथ-साथ उससे मिलते-जुलते ‘लव जिहाद’ के मामलों की जांच करने का भी आदेश दिया.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?