बाबरी मस्जिद मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 11 अगस्त से सुनवाई करने का फैसला किया है. सुप्रीम कोर्ट के सर्कुलर के मुताबिक तीन सदस्यीय बेंच के समक्ष इस मामले की दो बजे से शुरू होगी.

पिछले महीने भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी की अपील पर मुख्य न्यायाधीश जेएस खेहर ने कहा था कि वे इस मसले पर जल्दी कोई फैसला लेंगे. दरअसल 70 सालों से अदालत में चल रहे इस विवाद पर स्वामी ने जल्द फैसले के लिए मुख्य न्यायाधीश से गुजारिश की थी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ अपील सुप्रीम कोर्ट में ये मामला सात साल से लंबित है. 2010 में इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ पीठ ने 2.77 एकड़ विवादित क्षेत्र को इसके तीनों पक्षकार निर्मोही अखाड़ा, रामलला विराजमान और सुन्नी वक्फ बोर्ड के बीच बांटने का आदेश दिया था.

उसके बाद तमाम पक्षों की ओर से सुप्रीम कोर्ट में विशेष अनुमति याचिका (SLP) दायर की गई थी. सुप्रीम कोर्ट ने 9 मई 2011 को इस मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट के आदेश पर रोक लगाते हुए मामले की सुनवाई करने की बात कही थी. सुप्रीम कोर्ट ने यथास्थिति बनाए रखने का आदेश दिया था. सुप्रीम कोर्ट में इसके बाद से ये मामला पेंडिंग है और अभी सुनवाई पर नहीं आया है.

Loading...