Tuesday, September 28, 2021

 

 

 

चिटफंड मामले में CBI पहुंची SC, चीफ जस्टिस ने कहा – आप सबूत दो, कमिश्नर पर करेंगे कड़ी कार्रवाई

- Advertisement -
- Advertisement -

केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई और पश्चिम बंगाल की ममता सरकार के बीच रविवार शाम से शुरू हुई जंग सोमवार को सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई। सीबीआई की तरफ से सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस से इस मामले की तत्काल सुनवाई की मांग की, जिसे कोर्ट ने नकार दिया और सुनवाई कल के लिए टाल दी।

जस्टिस गोगोई ने सीबीआई से कहा, “आखिर इस सुनवाई की इतनी जल्दी क्या है? पहले सीबीआई सबूत सौंपे। अब इस केस की सुनवाई कल (मंगलवार) को होगी।” चीफ जस्टिस ने कहा, ‘आपने याचिका कब दायर की? आज सुबह और हम इसे पढ़ चुके हैं। दरअसल अदालत को कुछ मिनटों की देरी भी इसलिए हुई, क्योंकि हम आपकी ही याचिका पढ़ रहे थे। आप जो दावे कर रहे हैं, यहां उसके कोई सबूत नहीं हैं।’

सुनवाई के दौरान सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, “सीबीआई की टीम को गिरफ्तार किया गया और हिरासत में रखा गया। कोलकाता के पुलिस कमिश्नर को तुरंत सरेंडर करना चाहिए।”मेहता ने दावा किया कि कोलकाता पुलिस शारदा चिट फंड मामले से जुड़े सबूतों को नष्ट कर सकती है।

इसके जवाब में सीजेआई गोगोई ने कहा, “अगर सीबीआई को यह लगता है कि पुलिस सबूत नष्ट कर सकती है तो वह इसे सुप्रीम कोर्ट के सामने रखे।” सीजेआई ने आगे कहा, “अगर कोलकाता पुलिस ने सबूतों को मिटाने की कोशिश भी की है, तो कोर्ट में इसके सबूत लेकर आएं। हम उनके खिलाफ इतनी सख्त कार्रवाई करेंगे कि उनको ऐसा करने पर पछताना पड़ेगा।”

पश्चिम बंगाल सरकार की तरफ से पेश हुए वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने न्यायालय को अवगत कराया ‘‘ इस मामले में सीबीआई कोलकाता पुलिस आयुक्त की तलाश एक संदिग्ध के तौर पर कर रही है जबकि हकीकत यह है कि वह इस मामले में आरोपी नहीं है।’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles