देश की सुरक्षा करते हुए शहीद हुए जवान के अंतिम संस्कार को भी जातिगत भेदभाव का सामना करना पड़ा. जम्मू-कश्मीर के पंपोर में सीआरपीएफ पर हुए हमले में शहीद जवान वीर सिंह के अंतिम संस्कार को ऊंची जाति के लोगों ने इसलिए रोक दिया कि वे नट जाति से आते हैं.

उत्तर प्रदेश के शिकोहाबाद स्थित उनके गांव में सार्वजनिक जमीन पर शहीद वीर सिंह के अंतिम संस्कार के लिए इजाजत देने से इनकार कर दिया.  इसके बाद जिला प्रशासन की दखल के बाद दस वर्ग मीटर की जमीन मुहैया कराई गई.

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में पंपोर बॉर्डर पर आतंकी हमले में शनिवार को सीआरपीएफ के आठ जवान शहीद हो गए थे. उन शहीद जवानों में वीर सिंह भी शामिल थे.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?