Symbolic

नोटबंदी के दौरान बिना किसी छुट्टी के ओवर टाइम सेवा देने वाले बैंककर्मियों को मोदी सरकार ने अब तक ओवर टाइम का वेतन नहीं दिया है. ऐसे में बैंककर्मियों ने देशव्यापी हड़ताल की धमकी दी है.

ध्यान रहे 8 नवंबर 2016 की रात को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 500 और 1000 के पुराने नोट को अवैध करार देते हुए चलन से बंद कर दिया था. जिसके चलते देश की 86 फीसदी करेंसी अवैध हो गई थी. ऐसे में बैंककर्मियों ने पुराने नोट के बदले नए नोट आम जनता तक पहुंचाए थे.

करीब तीन महीने तक चले नोट बदलने के इस काम के दौरान बैंकों के कर्मचारियों की छुट्टियां भी रद्द कर दी गई थीं. इसके अलावा उनसे एक्स्ट्रा वर्क लिया गया था.

अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स ने अपनी रिपोर्ट में ऑल इंडिया बैंक एम्पलॉय एसोसिएशन के जनरल सेक्रेट्री सीएच वेंकटचलम के हवाले से लिखा है, ‘हम लोगों ने इसकी जानकारी सरकार को दी है. अगर हमारा ओवरटाइम का पैसा नहीं चुकाया जाता है तो हम कड़े उदम उठाएंगे. हम लोग पहले की तरह हड़ताल पर भी जा सकते है. इसके अलावा हम लोग कानूनी विकल्प भी तलाशेंगे.’

एक अन्य यूनियन के सदस्य अश्वनी राणा के हवाले से लिखा गया है, ‘हम लोग यह नहीं समझा पा रहे हैं बैंक कर्मचारियों का बकाया क्यों नहीं दे रहे हैं, जबकि वे इसके हकदार हैं. इससे कर्मचारियों का मनोबल नीचे गिरता है. ध्यान रहे  इस मामले को वित्त मंत्री अरुण जेटली के संज्ञान में भी लाया जा च्चुका है.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें