मोदी राज में ‘हेट क्राइम’ के 91 फीसदी मामले सामने आए, सबसे ज्यादा हुए मुस्लिम शिकार: रिपोर्ट

8:42 pm Published by:-Hindi News

धार्मिक आधार पर हेट क्राइम को लेकर मोदी सरकार की अंतराष्ट्रिय स्तर पर आलोचना होती रही है। इस मामले में अब एक रिपोर्ट सामने आई है। जिसके अनुसार, जनवरी 2009 से अप्रैल 2019 तक हेट क्राइम के मामलों में 91 फीसदी की बढ़ोतरी एनडीए सरकार के कार्यकाल में हुई है।

फैक्टचेकर डाटाबेस के अनुसार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के सत्ता में आने के बाद से हेट क्राइम की 262 घटनाए हुई हैं। मई 2014 से अप्रैल 2019 तक धार्मिक आधार से प्रेरित हिंसा में 99 लोग मारे गए जबकि कम से कम 703 घायल हो गए।

ये घटनाए देश के 23 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश में हुईं। इनमें असम, बिहार, दिल्ली, गुजरात, जम्मू और कश्मीर, झारखंड, मणिपुर, मेघालय, छत्तीसगढ़, तमिलनाडु, तेलंगाना और उत्तराखंड शामिल हैं। इन 12 राज्यों में से 8 राज्यों में भाजपा ने साल 2014 के आम चुनाव के बाद सरकार बनाई।

india muslim 690 020918052654

73 फीसदी मामले अल्पसंख्यकों के खिलाफ

24 मई 2014 से लेकर 30 अप्रैल 2019 तक हेट क्राइम के सबसे अधिक 73 फीसदी मामले अल्पसंख्यकों के खिलाफ थे। देश में मुसलमानों की आबादी 14 फीसदी है जबकि इस समुदाय के सबसे अधिक 61 फीसदी लोग हेट क्राइम के पीड़ितों में शामिल हैं। वहीं देश में 11 फीसदी आबादी वाले ईसाई समुदाय से 2 फीसदी लोग पीड़ित है।

गोरक्षा सबसे आम कारण

साल 2014 के बाद हेट क्राइम के मामलों में गोरक्षा सबसे आम कारण के रूप में सामने आया है। फैक्टचेकर डाटा के अनुसार पिछले पांच साल में हेट क्राइम के ऐसे 77 मामले दर्ज किए गए। मई 2014 से 30 अप्रैल 2019 तक गाय से संबंधित हेट क्राइम के 124 मामले दर्ज किए गए। दूसरा सबसे आम कारण में अंतर समुदाय (15 फीसदी) संबंध थे। इसके बाद हेट क्राइम के कारणों में सांप्रदायिक झड़प शामिल थे।

2009 से 2014 तक 25 घटनाएं

पिछली सरकार में भी अल्पसंख्यक हेट क्राइम का निशाना बने थे। जनवरी 2009 से 23 मई 2014 तक हेट क्राइम की 25 घटनाएं दर्ज की गईं। इन घटनाओं में 3 लोगों की मौत हुई और 17 लोग घायल हुए। इनमें 84 फीसदी अल्पसंख्यक निशाना बने। 2014 से पहले हेट क्राइम का सबसे आम कारण धर्म परिवर्तन (36 फीसदी) सामने आया था।

खानदानी सलीक़ेदार परिवार में शादी करने के इच्छुक हैं तो पहले फ़ोटो देखें फिर अपनी पसंद के लड़के/लड़की को रिश्ता भेजें (उर्दू मॅट्रिमोनी - फ्री ) क्लिक करें