gurugram namaz 620x400

नई दिल्ली – हरियाणा वक़्फ बोर्ड ने गुड़गांव में खुले में नमाज़ पढ़ने को लेकर कट्टर हिंदूवादी संगठनों के उत्पात, मुख्यमंत्री खट्टर द्वारा उनके पक्ष में दिए गए बयान के बाद उन मस्जिदों तथा ज़मीनों की लिस्ट उपायुक्त, गुरूग्राम को सौंपी हैं जिन पर अवैध कब्ज़ा है। खट्टर तथा प्रशासन की ज़िम्मेदारी बनती है कि वह तत्काल प्रभाव से वक़्फ की इन जगहों को मुसलमानों को सौंपे ताकि रमज़ान में नमाज़ पढ़ने को लेकर किसी प्रकार की परेशानी न हो।

ग़ौरतलब है कि गुड़गांव में गैर प्रांत कामगार मुसलमानों की एक अनुमानित तादाद करीब चार से पांच लाख है। लेकिन वे सभी गुड़गाँव के बाहर से आए हुए जिन्हें नमाज़ के लिए पार्क या सरकारी जगहों का इस्तेमाल करना पड़ता है। सरकार तथा प्रशासन कट्टरपंथी ताकतों के दबाव में जुमा की नमाज़ बंद करवाने को प्रयासरत है। पिछले जुमे ही तकरीबन पांच जगहों पर नमाज़ रोक दी गई थी।

इस विवाद के चलते हरियाणा वक्फ बोर्ड ने गुरूग्राम उपायुक्त को चिट्ठी लिखी है जिसमें मांग की गई है कि इन जमीनों को खाली कराया जाये, ताकि नमाज में पढ़ने में दिक्कत न हो। बता दें कि गुरूग्राम और उसके आस पास करीब 19 मस्जिदों पर अवैध रूप से लोगो ने कब्जा जमाया हुआ है। इन जमीनों में बीस कनाल जमीन तो चोमा गांव में ही है।

हरियाणा वक्फ बोर्ड ने अपनी चिट्ठी में उन मस्जिदो की लिस्ट भी उपायुक्त को भेजी है जिन पर अवैध तरीके से कब्जा किया हुआ है। वक्फ बोर्ड ने मांग की है कि जल्द से इन जमीनों को अवैध कब्जे से आजाद कराकर मुसलमानों को सौंपा जाये ताकि उन्हें नमाज पढ़ने में समस्या न हो।

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?