hjj1

केंद्र सरकार द्वारा गठित हज समिति की और से हाल ही में सौंपी गई हज नीति में हज़ पर 45 वर्ष से अधिक उम्र की मुस्लिम महिलाओं को मेहरम को ले जाने की पाबंदी हटाने का सुझाव दिया था. जिस पर कई मुस्लिम संगठनों ने आपत्ति जाहिर की.

ऐसे में अब समिति के संयोजक अफजल अमानुल्ला ने भाषा से बातचीत में इन आपत्तियों को दरकिनार करते हुए कहा कि नयी हज नीति तैयार करने की पूरी प्रक्रिया के दौरान हमने सऊदी अरब सरकार से संपर्क किया तो पता चला कि महिलाओं के अकेले हज करने को लेकर उनकी तरफ से कोई पाबंदी नहीं है.

उन्होंने बताया कि भारत सरकार और सऊदी अरब के बीच समझाौते के तहत मेहरम के साथ जाने की व्यवस्था थी. उन्होंने कहा कि अब हमने 45 साल और इससे अधिक उम्र की महिलाओं के बिना मेहरम के हज पर जाने की इजाजत दी.

अमानुल्ला ने कहा, मुस्लिम समाज में अलग-अलग पंथों के लोग मेहरम मामले पर अपने तरीके से आगे बढ सकते हैं. अगर किसी पंथ में इसकी मनाही है तो उस स्थिति में मेहरम को भेजा जा सकता है. इस नीति को किसी पर थोपा नहीं जाएगा.

ध्यान रहे मुस्लिम संगठनों ने नयी हज नीति तैयार करने में व्यवहारिक दिक्कतों और इस्लामिक कानूनों को नजरअंदाज करने का आरोप लगाया था.

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano